NDTV Khabar

कांग्रेस, NCP और शिवसेना की तिकड़ी ने कैसे दी BJP को 'मात'? पढ़ें- इनसाइड स्टोरी

एनसीपी को जिम्मेदारी दी गई कि वह अपने विधायकों को एकजुट रखे. इस काम में पार्टी के तमाम वरिष्ठ नेता लगे थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कांग्रेस, NCP और शिवसेना की तिकड़ी ने कैसे दी BJP को 'मात'? पढ़ें- इनसाइड स्टोरी

कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना ने अपने विधायकों को एकजुट रखा. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. फ्लोर टेस्ट से पहले ही फडणवीस ने दिया इस्तीफा
  2. अब उद्धव ठाकरे बनने वाले हैं मुख्यमंत्री
  3. कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना की गठबंधन सरकार होगी
नई दिल्ली :

महाराष्ट्र में बीजेपी ने रातों-रात उलटफेर करते हुए देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री बना दिया था. वहीं, अजित पवार डिप्टी सीएम बन गए. कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के लिए यह बड़ा झटका था, क्योंकि तीनों दल गठबंधन की कवायद में लगे थे और उद्धव ठाकरे के रूप में सीएम पद के उम्मीदवार पर सहमति भी बन गई थी. मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा. इस बीच बीजेपी लगातार बहुमत साबित करने का दावा करती रही. अजित पवार भी बीजेपी का साथ देने की बात कर रहे थे ट्विटर वॉर शुरू कर दिया था. उधर, सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई करते हुए फैसला मंगलवार की सुबह 10:30 बजे तक के लिए सुरक्षित रख लिया. मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि बुधवार यानी शाम 5 बजे तक सदन में देवेंद्र फडणवीस बहुमत साबित करें. साथ ही यह भी निर्देश दिया कि बहुमत साबित करने के लिए गुप्‍त मतदान नहीं होगा और इसका लाइव प्रसारण किया जाएगा. कोर्ट के फैसले के बाद सदन में बहुमत साबित करने की तैयारी शुरू हो गई, लेकिन बहुमत साबित करने की नौबत ही नहीं आई.

BJP से अलग होने के बाद जब विधानसभा पहुंचे अजित पवार तो बहन सुप्रिया सुले ने ऐसे किया स्वागत 


पहले अजित पवार ने अपने पद से इस्तीफा दिया, फिर देवेंद्र फडणवीस ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस्तीफे का ऐलान करके सबको चौंका दिया. महाराष्ट्र में हुए इस सियासी घटनाक्रम को लेकर तमाम तरह की चर्चाएं चल रही हैं. सवाल है कि जो बीजेपी सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक बहुमत साबित करने की बात कर रही थी और पार्टी की तरफ से तमाम दावे किये जा रहे थे, उसके सीएम ने कोर्ट के फैसले के ठीक बाद इस्तीफा क्यों दे दिया? बीजेपी और अजित पवार के तमाम दावे के बावजूद कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना की तिकड़ी ने अपने विधायकों को एकजुट कैसे रखा? शिवसेना की प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने NDTV के लिए लिखे अपने ब्लॉग में इन बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा की है. बकौल प्रियंका चतुर्वेदी, तीनों दलों ने इस स्थिति से निपटने के लिए पूरे दमखम के साथ लड़ने का निर्णय लिया. इस लड़ाई में तीनों दलों की अलग-अलग भूमिका तय की गई. 

अजित पवार बोले- मैं NCP में ही रहूंगा, मुझे कैबिनेट में शामिल करने का फैसला...

टिप्पणियां

शिवसेना को मिला था विधायकों को सुरक्षित रखने का जिम्मा
महाराष्ट्र के सियासी संग्राम में एनसीपी की भूमिका सबसे अहम थी, क्योंकि अजित पवार डिप्टी सीएम बन गए थे और अपने साथ अन्य विधायकों के होने का दावा कर रहे थे. ऐसे में एनसीपी को जिम्मेदारी दी गई कि वह अपने विधायकों को एकजुट रखे. इस काम में पार्टी के तमाम वरिष्ठ नेता लगे थे. दूसरी तरफ, विधायकों को तोड़फोड़ से कैसे बचाया जाए, इसकी जिम्मेदारी शिवसेना को दी गई. शिवसेना ने यह सुनिश्चित किया कि तीनों दलों के विधायक एक साथ और सुरक्षित रहें. एनसीपी और शिवसेना के अलावा कांग्रेस को लीगल फ्रंट पर लड़ने की जिम्मेदारी दी गई, क्योंकि पार्टी के तमाम नेता इस काम में अनुभवी और पेशेवर हैं. कांग्रेस ने पूरे मामले को पूरे दमखम के साथ सुप्रीम कोर्ट में रखा.   

VIDEO: महाराष्ट्र: आखिर अजित पवार की वापसी कैसे हुई?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement