महाराष्ट्र में 3 दिन का बच्चा Corona पॉजिटिव, पिता बोले- अस्पताल की लापरवाही, PM मोदी और CM उद्धव से की विनती

सिंह ने कहा, "एक डॉक्टर ने मुझे बुलाकर कहा कि आपके कमरे में एक कोरोना संक्रमित मरीज था और मेडिकल स्टाफ मेरी पत्नी या बच्चे की देखभाल नहीं कर सकता है."

महाराष्ट्र में 3 दिन का बच्चा Corona पॉजिटिव, पिता बोले- अस्पताल की लापरवाही, PM मोदी और CM उद्धव से की विनती

महाराष्ट्र में कोरोनावायरस से तीन दिन का बच्चा हुआ संक्रमित

मुंबई:

कोरोनावायरस (Coronavirus) को लेकर डर और चिंता के बीच मुंबई में एक मासूम बच्चे के पिता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से अपने परिवार को बचाने की गुहार लगाई है. उसका तीन दिन पहले जन्मा बच्चा और पत्नी दोनों कोरोनावायरस पॉजिटिव हैं. व्यक्ति ने इसके लिए अस्पताल को जिम्मेदार ठहराया है. मुंबई के चेंबूर में रहने वाले विक्की सिंह ने पिछले हफ्ते अपनी गर्भवती पत्नी को अस्पताल में भर्ती कराया था. बच्चे और मां को शुरुआत में एक प्राइवेट रूम में रखा गया. कुछ समय बाद उस कमरे में एक और मरीज को भर्ती किया गया. 

सिंह का आरोप है कि अस्पताल प्रशासन ने उन्हें यह नहीं बताया था कि वह मरीज कोरोनावायरस संक्रमित है. परेशान शख्स विक्की ने एक वीडियो में कहा, "मेरी पत्नी और तीन दिन का बच्चा कोरोना पॉजिटिव हैं. जिस कमरे में मेरा परिवार था, उसी कमरे में एक कोरोना के मरीज को रखा गया. अस्पताल के कर्मचारियों ने यह नहीं बताया कि वह मरीज कोरोना संक्रमित है." सिंह ने कहा कि बीएमसी के आदेश के कारण डॉक्टरों ने हमें कमरा खाली करने का आदेश दिया बावजूद इसके की मेरी पत्नी ने अभी बच्चे को जन्म दिया है और चलने-फिरने की हालत में नहीं है." 

सिंह ने कहा, "एक डॉक्टर ने मुझे बुलाकर कहा कि आपके कमरे में एक कोरोना संक्रमित मरीज था और मेडिकल स्टाफ मेरी पत्नी या बच्चे की देखभाल नहीं कर सकता है क्योंकि इससे हम भी संक्रमित हो सकते हैं. उन्होंने हमें अस्पताल छोड़ने के लिए कहा. मैंने अपनी जेब से 13,500 रुपये खर्च करके पत्नी और बच्चे की जांच कराई. मैंने डॉक्टरों से कहा कि जब तक दोनों ठीक नहीं होते हैं हम अस्पताल नहीं छोड़ेंगे. उन्होंने मुझे मजबूर किया. उन्होंने अस्पताल का बिल भरवाकर हमें अस्पताल से बाहर कर दिया."

उन्होंने वीडियो में कहा, "मैंने अपनी पत्नी और बच्चे को कस्तूरबा हॉस्पिटल में भर्ती कराया है, जहां उनका इलाज चल रहा है. मैं अपने बच्चे का अच्छा इलाज चाहता हूं और मैं अपने बच्चे की अच्छी देखभाल के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से विनती करता हूं."

सिंह ने यह भी कहा कि मेडिकल स्टाफ की लापरवाही की वजह से मेरी पत्नी और बच्चे की जान खतरे हैं. जो मेरे साथ हुआ वो किसी और के साथ नहीं हो. अस्पताल का स्टाफ इस तरह की गलती नहीं कर सकता है. 

बता दें कि महाराष्ट्र कोरोनावायरस से संक्रमित से सर्वाधिक प्रभावित राज्यों में से एक है. यहां कोरोना के अब 280 मामले आ चुके हैं और कम से कम 13 लोगों की इससे मौत हो चुकी है.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com