ट्रायल के लिए बांग्लादेश से यह एंटी कोविड दवा मंगाना चाहती ही महाराष्ट्र सरकार

18 मेडिकल कॉलेजों को यह दवा उपलब्ध कराई जाएगी और सरकार इसे बांग्लादेशी फर्म से प्राप्त कर रही है क्योंकि भारतीय कंपनियां इसे नहीं बना रही हैं.

ट्रायल के लिए बांग्लादेश से यह एंटी कोविड दवा मंगाना चाहती ही महाराष्ट्र सरकार

महाराष्ट्र सरकार को शुरुआत में 3,000 शीशियां मिल रही हैं (file pic)

मुंबई:

महाराष्ट्र में कोरोनावायर से लगातार बढ़ते आंकड़ों के चलते राज्य सरकार अब कोविड-19 की दवा का बहुत जल्द ट्रायल करने जा रही है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि महाराष्ट्र सरकार कोरोनावायरस को मारने में सबसे ज्यादा प्रभावी दवा रेमडेसीवीर (Remdesivir) का ट्रायल करने जा रही है. रेमडेसीवीर ऐसी दवा है जिसे COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में एक सफलता के रूप में देखा गया है. सूत्रों ने कहा कि राज्य की कोविड 19 टास्क फोर्स में ऐसे डॉक्टर शामिल हैं, जो क्लीनिकल मैनेजमेंट पर ध्यान देते हैं और उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को जान बचाने के लिए इस दवा के इस्तेमाल करने का सुझाव दिया था, 


सूत्रों ने कहा कि मुख्यमंत्री ने दवा को और सुलभ बनाने के लिए नौकरशाही बाधाओं से बाहर निकलने का रास्ता खोजने को कहा है.अमेरिकी दवा कंपनी गिलियड साइंसेज से पेटेंट लाइसेंस हासिल करने वाली भारतीय फर्म अभी भी देश में दवा का निर्माण और विपणन नहीं कर रही हैं क्योंकि उनके पास अभी तक मंजूरी नहीं है. 18 मेडिकल कॉलेजों को यह दवा उपलब्ध कराई जाएगी और सरकार इसे बांग्लादेशी फर्म से प्राप्त कर रही है क्योंकि भारतीय कंपनियां इसे नहीं बना रही हैं.

महाराष्ट्र सरकार को शुरुआत में 3,000 शीशियां मिल रही हैं और 10,000 से अधिक शीशियों को हासिल करने के लिए योजनाओं को अंतिम रूप दिया गया है, जबकि इस दवा के इस्तेमाल के लिए केंद्र की मंजूरी जरूरी है.

महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र अह्वाड ने दवा के लिए केंद्र से मंजूरी मांगी है, उन्होंने अपने ट्वीट में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को टैग करते हुए लिखा, ''

"शुरुआत से मैंने लगातार डीसीजीआई और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से रेमेडिसविर दवा के इस्तेमाल की अनुमति देने का आग्रह किया. आप लोग अभी तक इसकी अनुमति को लंबित क्यों रखे हुए हैं, लोग मर रहे हैं. और अभी तक यह सबसे बेस्ट दवा है.'' 

मुंबई में गुरुवार को लगातार दो दिनों तक 97 लोगों की मौत के बाद महाराष्ट्र की मृत्यु दर मामूली रूप से बढ़कर 3.7 प्रतिशत हो गई. राज्य सरकार ने अब तक मृत्यु दर पर चिंताओं को नियंत्रित किया है.  महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने पिछले सप्ताह कहा था हमारा राज्य Remdesivir की 10,000 शीशियों की खरीद करेगा. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने कहा कि प्रयोगशाला, पशु और क्लिनिकल स्टडीज के साक्ष्यों के आधार पर, इस दवा ने MERS-CoV और SARS में आशाजनक परिणाम दिखाए हैं, जो कोरोनावायरस के कारण भी होते हैं. राजेश टोपे ने अपने ट्वीट में कहा था "विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार यह दवा हमें Covid-19 के खिलाफ सफलता दे सकती है. गरीब और जरूरतमंद रोगियों के लिए महंगी दवा उपलब्ध कराई जा रही है."

कोरोनावायरस में कारगर दवा पर पांच कंपनियों के साथ करार