NDTV Khabar

महाराष्ट्रः कांग्रेस सरकार में हुए 70 हजार करोड़ के घोटाले में फंसे पूर्व डिप्टी सीएम, ACB ने जांच में ठहराया जिम्मेदार

महाराष्ट्र में हुए करीब 70 हजार करोड़ के कथित सिंचाई घोटाले में  भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो( ACB) ने पूर्व  मुख्यमंत्री और एनसीपी नेता अजित पवार को जिम्मेदार ठहराया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्रः कांग्रेस सरकार में हुए 70 हजार करोड़ के घोटाले में फंसे पूर्व डिप्टी सीएम, ACB ने जांच में ठहराया जिम्मेदार

महाराष्ट्र के पूर्व डिप्टी सीएम अजित पवार सिंचाई घोटाले में फंसे हैं.

खास बातें

  1. महाराष्ट्र में हुए 70 हजार करोड़ के घोटाले में फंसे अजित पवार
  2. जांच एजेंसी एसीबी ने पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार को ठहराया जिम्मेदार
  3. बंबई हाईकोर्ट को एसीबी ने सौंपी जांच रिपोर्ट
नई दिल्ली:

महाराष्ट्र में हुए करीब 70 हजार करोड़ के कथित सिंचाई घोटाले (Maharashtra Irrigation Scam) में  भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो( ACB) ने पूर्व उप मुख्यमंत्री और एनसीपी नेता अजित पवार को जिम्मेदार ठहराया है. महाराष्ट्र भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने बंबई उच्च न्यायालय को बताया है कि करोड़ों रुपये के कथित सिंचाई घोटाला मामले में उसकी जांच में राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री अजित पवार तथा अन्य सरकारी अधिकारियों की ओर से भारी चूक की बात सामने आई है. यह घोटाला करीब 70,000 करोड़ रुपए का है, जो कांग्रेस- राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के शासन के दौरान अनेक सिंचाई परियोजनाओं को मंजूरी देने और उन्हें शुरू करने में कथित भ्रष्टाचार तथा अनियमितताओं से जुड़ा हुआ है.

पवार राकांपा के उन मंत्रियों में शामिल रहे, जिनके पास महाराष्ट्र में 1999 से 2014 के दौरान कांग्रेस-राकांपा गठबंधन सरकार में सिंचाई विभाग का प्रभार था. एसीबी के महानिदेशक संजय बारवे ने एक स्वयंसेवी संस्था जनमंच की ओर से दाखिल याचिका के जवाब में उच्च न्यायालय की नागपुर पीठ के समक्ष मंगलवार को एक हलफनामा दाखिल किया. एनजीओ ने अपनी याचिका में विदर्भ और कोंकण सिंचाई विभाग द्वारा शुरू की गई सिंचाई परियोजनाओं में अनियमितता पर चिंता जताई.जवाबी हलफनामे में जल संसाधन विभाग के अंदर घोटाले को ‘साजिश का एक विचित्र मामला' बताया गया जिसने सरकार से ही धोखाधड़ी की.


इसमें कहा गया कि पवार के जल संसाधन विकास मंत्री रहने के दौरान विदर्भ और कोंकण सिंचाई विकास निगम की अनेक परियोजनाओं में देरी हुई, लागत में वृद्धि हुई और सिंचाई के अनुमानित लक्ष्यों तक नहीं पहुंचा गया. हलफनामे में कहा गया कि पूछताछ के दौरान पवार ने दावा किया कि उन्होंने सारे निर्णय सचिव स्तरीय अधिकारियों के सुझाव पर लिए थे और अधिकतर निर्णय जमीनी स्तर पर लिए गए. एसीबी ने अनियमितता की जांच आगे बढ़ाने और कानून के मुताबिक आपराधिक कार्रवाई करने के लिए और वक्त मांगा है.

टिप्पणियां

वीडियो- अंजली दमानिया का आरोप, ठाकरे की कंपनियां सिंचाई घोटाले में शामिल 

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement