NDTV Khabar

जुमे की नमाज़ नहीं पढ़ने पर रिश्तेदारों ने की नाबालिग़ लड़की की हत्‍या

मुंबई के अंटॉप हिल इलाके की एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. एक 15 साल की नाबालिग बच्ची को उसके रिश्तेदारों ने इसलिए मार दिया क्योंकि उसने जुमे के दिन नमाज़ नहीं पढ़ी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जुमे की नमाज़ नहीं पढ़ने पर रिश्तेदारों ने की नाबालिग़ लड़की की हत्‍या

15 साल की नाबालिग बच्ची को उसके रिश्तेदारों ने इसलिए मार दिया क्योंकि उसने जुमे के दिन नमाज़ नहीं पढ़ी

खास बातें

  1. मुंबई के अंटॉप हिल इलाके की वारदात
  2. पुलिस ने इस मामले में पीड़ित के तीन रिश्तेदारों को गिरफ्तार कर लिया है
  3. हत्‍या के बाद रिश्तेदारों ने अपराध छुपाने के लिए झूठा बयान दिया
मुंबई: मुंबई के अंटॉप हिल इलाके की एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. एक 15 साल की नाबालिग बच्ची को उसके रिश्तेदारों ने इसलिए मार दिया क्योंकि उसने जुमे के दिन नमाज़ नहीं पढ़ी. पुलिस ने इस मामले में पीड़ित के तीन रिश्तेदारों को गिरफ्तार कर लिया है.

हरियाणा के सीएम खट्टर बोले - सार्वजनिक स्थानों की जगह मस्जिद या ईदगाह में ही पढ़ें नमाज

रिश्तेदारों की बार-बार नसीहत के बाद भी जब भांजी ने जुमे की नमाज़ अदा नहीं की तो गुस्से में आकर पीड़ित की मामी ने दुपट्टे से गला घोंटकर उसकी ह्त्या कर दी. मामला मुंबई के अंटॉप हिल का है. हत्‍या के बाद रिश्तेदारों ने अपराध छुपाने के लिए झूठा बयान दिया कि पीड़ित की मौत बाथरूम में फिसलने से हुई, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने रिश्तेदारों का झूठ पकड़ लिया. 

बाप ने पत्‍थर मारकर ले ली दो साल के बेटे की जान, फिर घबराकर की आत्‍महत्‍या की कोशिश

वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक सुदर्शन पैठणकर ने बताया कि बच्‍ची के नमाज नहीं पढ़ने पर उसके रिश्‍तेदार गुस्‍से में आ गए और अपराध को अंजाम दिया. इस मामले में अब तक तीन लोगों की गिरफ्तारी हुई है, सारे रिश्तेदार हैं. पिता की आर्थिक स्थिति सही नहीं होने और छोटी उम्र में ही मां के मौत के कारण पीड़ित बचपन से ही रिश्तेदारों के घर में रहती थी. वारदात की खबर सुनने के बाद से ही पिता सदमे में हैं और पछता रहे हैं कि अपनी बेटी को रिश्तेदारों के पास क्यों छोड़ा.

टिप्पणियां
कर्नाटक का जो शख्‍स बीजेपी की लिस्‍ट में 'शहीद', वो आज भी जिंदा

मृतक लड़की के पिता का कहना है कि वो लोग कौन होते हैं मारने वाले? उसका बाबा अभी ज़िंदा था अगर नमाज़ नहीं पढ़ती तो मेरे पास भेज देते और बोलते की अपनी बेटी को नमाज़ पढ़ना सीखा लो, लेकिन वो लोग ऐसे किस्म के लोग है कि उनके पास जाना मतलब मार खा के वापस आना.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement