NDTV Khabar

अवैध हुक्के से उठी आग की चिंगारी ने कमला मिल्स कंपाउंड को जलाकर राख कर दिया : रिपोर्ट

रिपोर्ट के मुताबिक, प्रत्यक्षदर्शियों से पता चला है कि आग के समय मोजो के रेस्तरां में हुक्का परोसा गया था.

110 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अवैध हुक्के से उठी आग की चिंगारी ने कमला मिल्स कंपाउंड को जलाकर राख कर दिया : रिपोर्ट

(फाइल फोटो)

खास बातें

  1. रिपोर्ट इशारा करती है कि आग सबसे पहले 'मोजो रेस्तरां' में लगी.
  2. इस भीषण हादसे में 14 लोगों की मौत हो गई थी.
  3. पता चला है कि आग के समय मोजो के रेस्तरां में हुक्का परोसा गया था.
मुंबई : मुंबई के कमला मिल्स कंपाउंड में लगी भीषण आग मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. मुंबई फायर ब्रिगेड की प्राथमिक जांच में ये बात सामने आई है कि 29 दिसंबर को कमला मिल्स कंपाउंड में लगी आग की मुख्य वजह अवैध हुक्के से उठी चिंगारी हो सकती है, जिसे मोजो बिस्त्रो रेस्टोरेंट में सर्व किया गया था. बता दें कि इस भीषण हादसे में 14 लोगों की मौत हो गई थी. रिपोर्ट इस बात की ओर इशारा करती है कि आग सबसे पहले 'मोजो रेस्तरां' में शुरू हुई और फिर बाद में फैलती-फैलती उससे लगे वन एबॉव पब तक पहुंच गई. पुलिस ने शुरू में कहा था कि ज्यादातर पीड़ित शौचायल में फंसे थे और दम घुटने से लोगों की मौत हो गई थी.

रिपोर्ट के मुताबिक, प्रत्यक्षदर्शियों से पता चला है कि आग के समय मोजो के रेस्तरां में हुक्का परोसा गया था. इसलिए हर तरह की संभावना है कि सेजरी (स्टोव) से हल्के लकड़ी का कोयला हटाने या इसे हुक्का में भरने या फैनिंग के दौरान लकड़ी या कोयला के अंगारे निकट के दहनशील पर्दे या सजावटी सामग्री के संपर्क में आए और आग लगा गई. 

यह भी पढ़ें : मौत की कीमत आप क्या जानो कमिश्नर साहब!

रिपोर्ट से यह स्पष्ट होता है कि मोजो या वन एबव रेस्तरां में से किसी को भी शराब और हुक्का परोसने की इजाजत नहीं थी. बावजूद इसके वो अपने पब में शराब और हुक्का परोस रहे थे. हालांकि, वहां पर एक इमरजेंसी एग्जिट था मगर पब के स्टाफ इससे अनजान थे.

टिप्पणियां


इसी के चलते मुम्बई पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए, भविष्य में एेसे हादसों पर रोक लगाने के लिए और ऐसे ठिकानों का पता लगाने के लिए एक अलग तरीका निकाला है. दरअसल मुम्बई पुलिस ने कमला मिल्स परिसर में ‘1 एबव’ पब के मालिकों के ठिकाने के बारे में सूचना देने वाले को एक लाख रुपए का इनाम देने की शुक्रवार को घोषणा की. पुलिस के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी. पब मालिकों कृपेश मनसुखलाल सांघवी, जिगार सांघवी और अभिजीत मंकार गत 29 दिसम्बर को हुई इस घटना के बाद से ही फरार है. एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस की टीमें इन तीनों का पता लगाने का प्रयास कर रही हैं और एक लुकआउट नोटिस भी जारी किया गया है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement