NDTV Khabar

मुंबई में बरसात की रात की दो कहानियां: कहीं फिसला विमान तो कहीं लोगों ने लोकल ट्रेन में गुजारी पूरी रात

ट्रेनों में फंसे हजारों यात्री हालांकि उन 167 यात्रियों की तुलना में कम खुशकिस्मत थे जो उस विमान में सवार थे जो रनवे से फिसल गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई में बरसात की रात की दो कहानियां: कहीं फिसला विमान तो कहीं लोगों ने लोकल ट्रेन में गुजारी पूरी रात

मंबई में इन दिनों हो रही भारी बारिश ने 42 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है.

खास बातें

  1. रनवे पर लैंडिग करते हुए फिसल गया विमान
  2. लोकल ट्रेनों में पूरी रात फंसे रहे यात्री
  3. मुंबई में भारी बारिश से अस्त-व्यस्त हो गया है जनजीवन
मुंबई:

मुंबई में सोमवार और मंगलवार की दरम्यानी रात भारी बारिश के बीच एक विमान मुख्य रनवे से फिसल गया और इस घटना ने खूब सुर्खियां बटोरी. जहां विमान में सवार यात्री और चालक दल के सदस्य सही सलामत रहे, वहीं यात्रियों का एक और समूह जो लोकल ट्रेनों से सफर करता है , उस पूरी रात फंसे रहे लेकिन उनके इस बुरे अनुभव के बारे में लगभग नहीं के बराबर बात हुई. समाचार एजेंसी पीटीआई के दो पत्रकार छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस से घर जाने के लिए रवाना हुए जो दिन भर बारिश संबंधी खबरें करने के बाद इत्मिनान से सफर करने की उम्मीद कर रहे थे. इन्होंने मध्य रेलवे लाइन पर खोपोली जाने वाली ट्रेन ली. रात करीब 10 बजकर 28 मिनट पर चलने वाली ट्रेन 10 मिनट की देरी से चली लेकिन बाद में कुर्ला पहुंचने तक वह सही से चली. कुर्ला उनके गंतव्य स्टेशन ठाणे से कुछ ही दूरी पर था लेकिन तेज बारिश से पटरियों पर पानी भरने लगा. करीब सवा 11 बजे यह कुर्ला और विद्याविहार के बीच एक स्थान पर रुकी. ट्रेन की गति इस रास्ते पर धीमी होती गई लेकिन उन्होंने इस बारे में ज्यादा सोचा नहीं. उन्होंने सोचा नहीं था कि उनका सफर खत्म होने जा रहा है या यूं कहें कि अगले दो घंटे के लिए रफ्तार थम गई.

बारिश की वजह से एयरपोर्ट पर फंसी बॉलीवुड एक्ट्रेस तो फैन्स की भीड़ ने लिया घेर, फिर हुआ कुछ ऐसा

 ट्रेन के पीए सिस्टम पर कोई घोषणा नहीं हुई और मध्य रेलवे के सोशल मीडिया हैंडलों पर भी कोई जानकारी उपलब्ध नहीं थी. दोस्तों एवं साथी पत्रकारों के व्हाट्सएप संदेश तथा ट्विटर और फेसबुक जैसे अन्य समाचार स्रोतों से अपडेट आते रहे. सबसे महत्त्वपूर्ण खबर थी कि वे अकेले नहीं थे-हमारे पीछे और आगे ट्रेनें एक के पीछे एक खड़ी थीं. इन रुकी हुई ट्रेनों में फंसे हजारों यात्री हालांकि उन 167 यात्रियों की तुलना में कम खुशकिस्मत थे जो उस विमान में सवार थे जो रनवे से फिसल गया था. कोई एयरहोस्टेस और स्टूअर्ड नहीं था जो उन्हें खाना, पानी लाकर देता और यात्रा कब शुरू होगी यह बताता. 


 कई लोगों की मौत, उड़ानें रद्द, ट्रेनें रुकीं, 48 घंटे का अलर्ट, अब तक की 10 बड़ी बातें

टिप्पणियां

गनीमत थी कि ट्रेन कंपार्टमेंट के भीतर की लाइटें जली हुई थीं. मुंबई जाने वाले विमानों का मार्ग परिवर्तित किए जाने की खबरें मिनट दर मिनट मिल रहीं थीं लेकिन रेलवे की ओर से कोई खबर नहीं आ रही थी. ट्रेनों का फंस जाना मुंबईकरों के लिए कोई नयी बात नहीं है और ऐसी स्थिति में सामान्य तौर पर पटरियों पर उतर कर पास के स्टेशन जाना पड़ता है. इन पत्रकारों समेत कई अन्य ने इस बार भी वही किया और स्टेशन पहुंच कर फिर कार वालों से मदद लेकर आगे का सफर तय किया. 

वीडियो: मुंबईकरों को अगले कुछ दिनों में बारिश से मिलेगी राहत



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement