NDTV Khabar

मुर्दा बोल उठा! खुद को मरा साबित करने के लिए की दूसरे की हत्या.. लेकिन खुल गया मामला

जब मामले में पुलिस जांच आगे बढ़ी तो दूसरे की हत्या कर बीमा की रकम हड़पने का रामदास वाघ का सारा खेल सामने आ गया.

385 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुर्दा बोल उठा! खुद को मरा साबित करने के लिए की दूसरे की हत्या.. लेकिन खुल गया मामला

हत्‍या का आरोपी रामदास वाघ...

मुंबई: लालच में इंसान इस कदर अंधा हो जाता है कि वो दूसरे की जान लेने से भी बाज नहीं आता, लेकिन ये भूल जाता है कि जुर्म कभी छिपता नहीं. नासिक में ऐसी ही दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है, जिसमें 4 करोड़ की बीमा की रकम हड़पने के लालच में एक शख्स ने दूसरे की हत्या कर उसे खुद की मौत बनाने की चाल चली थी, लेकिन मुर्दे ने पूरे राज पर से पर्दा उठा दिया.

नासिक ग्रामीण में लोकल क्राइम ब्रांच के पुलिस इंस्‍पेक्‍टर किशोर नवले के मुताबिक, 9 जून को नासिक के त्रयम्बकेश्वर की जव्हार घाटी में सड़क किनारे एक लाश पड़ी हुई मिली थी. पहली नजर में मामला सड़क हादसा लग रहा था. पुलिस ने एडीआर दर्ज कर शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया. शव के पास मिले एटीएम कार्ड और बिजली बिल से मृतक की पहचान रामदास वाघ के तौर पर हुई, लिहाजा उनके परिवार वालों को भी सूचित कर दिया गया, लेकिन जब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आई तो पूरी कहानी ही बदल गई. पता चला कि उस शख्स की मौत सड़क हादसे से नहीं, बल्कि गला दबाने से हुई है.

नवले के मुताबिक, मामला हत्या का निकला तो मृतक के परिवार और दोस्तों से ही जांच की शुरुआत की गई और फिर उसके बाद जो कहानी सामने आई वो और भी हैरान करने वाली थी. पता चला कि मरने वाला रामदास वाघ नहीं, बल्कि होटल में काम करने वाला एक मंदबुद्धि वेटर मुबारक चांद है. मुबारक तमिलनाडु के सालेम जिले का रहने वाला था.
 
जांच आगे बढ़ी तो दूसरे की हत्या कर बीमा की रकम हड़पने का रामदास वाघ का सारा खेल सामने आ गया. दरसअल, पेशे से एस्टेट एजेंट रामदास के नाम पर अलग-अलग 3 बीमा कंपनियों का 4 करोड़ का बीमा था, जिसे पाने के लिए उसने अपने दोस्तों और होटल मालिक के साथ मिलकर मुबारक चांद की हत्या की फिर एक्सीडेंट बताने के लिए एक कार से उसका सिर कुचल दिया, ताकि मृतक की सही पहचान ना हो पाए. ये साबित करने के लिए कि मरने वाला वो खुद है, रामदास ने मृतक की जेब में अपना एटीएम कार्ड और बिजली का बिल भी रख दिया था. लेकिन मुर्दे ने खुद ही मौत की झूठी कहानी से पर्दाफाश कर अपना बदला ले लिया. बहरहाल, रामदास वाघ तो पुलिस के हत्थे अभी नही चढ़ा है, लेकिन साजिश में शामिल उसके तीनों दोस्तों को गिरफ्तार कर हत्या में इस्तेमाल XUV कार बरामद कर ली गई है.

(नासिक से किशोर बेलसरे के इनपुट के साथ)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement