NDTV Khabar

उद्धव ठाकरे सरकार के विश्‍वासमत हासिल करने पर क्‍या बोले NCP नेता अजित पवार...

NCP प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजित पवार ने कहा, 'हमने विश्‍वासमत की पहली परीक्षा पास कर ली है और दूसरी परीक्षा विधानसभा अध्‍यक्ष का चुनाव है और हमें पूरा विश्‍वास कि हम उसमें भी कामयाब होंगे.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उद्धव ठाकरे सरकार के विश्‍वासमत हासिल करने पर क्‍या बोले NCP नेता अजित पवार...

चाचा शरद पवार के साथ अजित पवार (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. भाजपा विधायक विश्‍वासमत के दौरान विधानसभा से बाहर चले गए
  2. 'राज्यपाल की मंजूरी के बाद ही सत्र आयोजित किया गया'
  3. रविवार को विधानसभा अध्‍यक्ष का चुनाव होगा
मुंबई:

राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) विधायक अजित पवार (Ajit Pawar), जो पिछले हफ्ते महाराष्‍ट्र में सरकार बनाने के लिए बीजेपी के साथ चले गए थे लेकिन कामयाब नहीं हो सके, ने शनिवार को एनसीपी-शिवसेना-कांग्रेस सरकार के विश्‍वासमत (Maharashtra Floor Test) हासिल करने पर कहा कि सरकार ने 'पहली परीक्षा पास' कर ली है.

NCP प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजित पवार ने कहा, 'हमने विश्‍वासमत की पहली परीक्षा पास कर ली है और दूसरी परीक्षा विधानसभा अध्‍यक्ष का चुनाव है और हमें पूरा विश्‍वास कि हम उसमें भी कामयाब होंगे.'

शनिवार को जब विश्‍वासमत शुरू हुआ तब पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्‍व में बीजेपी के 105 विधायक ने सदन से बाहर चले गए. वो बीजेपी के कालिदास कोलंबकर की जगह एनसीपी के दिलीप वलसे पाटिल को प्रोटेम स्‍पीकर बनाए जाने का विरोध कर रहे थे. रविवार को विधानसभा अध्‍यक्ष का चुनाव होगा.

महाराष्‍ट्र में विश्‍वासमत के बाद NCP ने कसा तंज, कहा - भाजपा को भागने का बहाना चाहिए था


एनसीपी के प्रवक्‍ता नवाब मलिक ने बीजपे के विधानसभा से बहिर्गमन की आलोचना की. नवाब मलिक ने कहा कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की मंजूरी के साथ वाल्से पाटिल को कार्यवाहक अध्यक्ष नियुक्त किया गया. राज्यपाल की मंजूरी के बाद ही सत्र आयोजित किया गया. मलिक ने कहा, ‘‘उन्हें सदन से भागने के लिए कोई बहाना चाहिए था इसलिए यह हंगामा किया. देवेंद्र जी (भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस) को वरिष्ठ भाजपा नेता एकनाथ खडसे से सीख लेनी चाहिए कि एक विपक्षी नेता को कैसे काम करना चाहिए.''

महाराष्ट्र में अब एक नियम की वजह से फिर आ सकता है ट्विस्ट? BJP ने कहा- जा सकते हैं सुप्रीम कोर्ट

अजित पवार, जिन्‍होंने देवेंद्र फडणवीस के साथ उप मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली थी, यह स्‍पष्‍ट हो जाने के बाद कि बीजेपी के पास सरकार बनाने के लिए जरूरी आंकड़े नहीं हैं, एनसीपी में वापस लौट आए थे. अजित पवार दावा करते रहे कि उनके पास पूरी एनसीपी का समर्थन है जबकि उनके चाचा शरद पवार ने उनके इस कदम का विरोध किया.

शनिवार को हुए विश्‍वासमत में 288 सदस्‍यीय विधानसभा में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन के पक्ष में 169 सदस्‍यों ने वोट डाला. चार सदस्‍य वोटिंग से दूर रहे. मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे और शिवसेना नेता सुभाष देसाई ने वोट नहीं डाला क्‍योंकि वो विधानसभा के सदस्‍य नहीं हैं.

VIDEO: उद्धव ठाकरे ने हासिल किया विश्वासमत

टिप्पणियां

(इनपुट ANI से...)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement