NDTV Khabar

महिला कैदी मंजुला शेट्टे के साथ यौन उत्पीड़न के सुराग नहीं, राज्य महिला आयोग ने भी बनाई SIT

राज्य महिला आयोग ने भी एक विशेष जांच दल बनाने की घोषणा कर मामले में खुद संज्ञान लिया है.

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महिला कैदी मंजुला शेट्टे के साथ यौन उत्पीड़न के सुराग नहीं, राज्य महिला आयोग ने भी बनाई SIT

मंजुला शेट्टे की फाइल फोटो...

मुंबई: भायखला जेल में महिला कैदी मंजुला शेट्टे की मौत में नए-नए खुलासे हो रहे हैं. इस बीच राज्य महिला आयोग ने भी एक विशेष जांच दल बनाने की घोषणा कर मामले में खुद संज्ञान लिया है. महिला आयोग की अध्यक्ष विजया रहाटकर ने गुरुवार सुबह जेल अधिकारियों से अपने दफ्तर में मुलाकात की. उसके बाद खुद भायखला जेल में जाकर उन्होंने मौके का जायजा भी लिया. वो जेल में तकरीबन 2 घंटे रहीं.

विजया रहाटकर ने पत्रकारों को बताया कि मंजुला की हत्या की जांच के लिए गठित एसआईटी में रिटायर्ड जज, रिटायर्ड आईएएस अफसर और एनजीओ से एक सदस्‍य.. यानि कुल मिलाकर 3 लोग होंगे, जो हर एंगल से मामले की जांच कर अपनी रिपोर्ट आयोग को सौंपेगे.

जेल में महिला कैदी की हत्या ने मुंबई ही नहीं, महाराष्ट्र की सभी जेलों में कैदियों की दुर्दशा को उजगार किया है.. खासकर महिला जेलों में. यही वजह है कि राज्य महिला आयोग ने राज्य की सभी जेलों में बंद महिला कैदियों की जानकारी और जेल में उनकी व्यवस्था पर 15 दिन के भीतर एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी है, ताकि उसकी समीक्षा कर जरूरी सुधार का सुझाव दिया जा सके.

इस बीच जहां पोस्टमॉर्टम में मंजुला के साथ यौन उत्पीड़न के निशान नहीं मिले, वहीं मेडिकल जांच में इंद्राणी मुखर्जी को भी कोई फ्रैक्चर नहीं होने की बात पता चली. हालांकि मेडिकल जांच में इंद्राणी के हाथ और दूसरे हिस्सों में भोथरी चोट होने की पुष्टि हुई है.

मुंबई पुलिस की प्रवक्ता डॉ. रश्मि करंदीकर के मुताबिक, इंद्राणी ने बुधवार देर रात नागपाड़ा पुलिस थाने में शिकायत भी दर्ज कराई है.. उस पर गौर किया जा रहा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement