NDTV Khabar

देश में पहले विमान कारखाने के लिए पायलट से महाराष्‍ट्र सरकार ने की 35,000 करोड़ की डील

मैग्नेटिक महाराष्ट्र वैश्विक निवेशक शिखर सम्मेलन में राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस पायलट अमोल यादव के साथ 35,000 करोड़ रुपये के निवेश समझौते की पेशकश की. यह समझौता यादव और महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम (एमआईडीसी) के बीच है जिससे करीब 10,000 नौकरियां सृजित होंगी.

240 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश में पहले विमान कारखाने के लिए पायलट से महाराष्‍ट्र सरकार ने की 35,000 करोड़ की डील

महाराष्‍ट्र सरकार ने देश में पहले विमान कारखाने के लिए पायलट के साथ की 35,000 करोड़ डील

खास बातें

  1. यह समझौता यादव और महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम के बीच हुआ है
  2. इस समझौते से करीब 10,000 नौकरियां सृजित होंगी
  3. यह कारखाना पालघर जिले में 157 एकड़ से ज्यादा में फैला होगा
मुंबई: देश में विमान बनाने का कारखाना लगाने के एक वाणिज्यिक पायलट के सपने को महाराष्ट्र सरकार ने पंख दे दिए. इसके लिए उसने इस पायलट के साथ 35,000 करोड़ रुपये के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

पायलट को देखते ही हुआ प्यार, प्रपोज किया तो पति ने पकड़ा, उसके बाद...

यहां चल रहे ‘मैग्नेटिक महाराष्ट्र’ वैश्विक निवेशक शिखर सम्मेलन में राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस पायलट अमोल यादव के साथ 35,000 करोड़ रुपये के निवेश समझौते की पेशकश की. यह समझौता यादव और महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम (एमआईडीसी) के बीच है जिससे करीब 10,000 नौकरियां सृजित होंगी। यह कारखाना पालघर जिले में 157 एकड़ से ज्यादा में फैला होगा.

पिछले साल फडणवीस ने सतारा जिले के 42 वर्षीय यादव को उनका ख्वाब सच करने के लिए हर मदद उपलब्ध कराने का वादा किया था. यादव देश में ही छह सीट और 19 सीट वाले विमानों का विनिर्माण करने का कारखाना बनाना चाहते हैं. यादव ने कहा, ‘‘मैं विमान बनाने होंगे. मैंने अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन किया है. फडणवीस देश का पहला विमान कारखाना महाराष्ट्र में लगाना चाहते हैं. इसके लिए पालघर में 157 एकड़ भूमि की पहचान की गई है. एमआईडीसी हमें भूमि एवं सड़क जैसी अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराएगी.’’ 

उड़ान के दौरान फ्लाइट में लड़ाई करने वाले दोनों पायलटों का लाइसेंस 5 साल के लिए रद्द

टिप्पणियां
यादव ने कहा उनकी जिम्मेदारी विमान बनाने और कारखाना स्थापित करने की है जो और विमानों का उत्पादन करेगा. इसके अलावा उन्हें देश में और स्थापित किए जाने वाले विमान संयंत्रों की भी देखरेख करनी होगी. यह विमान बनाने का प्रमुख केंद्र होगा. महाराष्ट्र सरकार इसके लिए जरुरी कोष जुटाने में मदद करेगी. यादव ने कहा, ‘‘सरकार को उम्मीद है कि 35,000 करोड़ रुपये का निवेश केवल मेरी अकेले की कंपनी के लिए ना होकर बल्कि यह इस केंद्र में स्थापित होने वाली सहायक कंपनियों के लिए भी होगा.’’ 

VIDEO: देश के पहले स्वदेशी विमान को मिला पीएम मोदी और सीएम फडणवीस का नाम
उन्होंने कहा कि पहले चरण में उन्हें 19 सीट वाले विमान का एक प्रोटोटाइप और तीन ऐसे ही विमान उत्पादन के लिए बनाना है. इस पर 200 करोड़ रुपये के निवेश की तत्काल जरुरत होगी जिसे अगले छह महीनों में खर्च किया जाना है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement