Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

महाराष्ट्र: राष्ट्रपति शासन लगने के बाद राजनीतिक दलों के पास क्या हैं विकल्प? 

संविधान विशेषज्ञों का कहना है कि महाराष्ट्र की राजनीतिक पार्टियां राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होने के बावजूद सरकार बनाने का अपना दावा पेश कर सकती हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र: राष्ट्रपति शासन लगने के बाद राजनीतिक दलों के पास क्या हैं विकल्प? 

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग लगा है.

नई दिल्ली :

संविधान विशेषज्ञों का कहना है कि महाराष्ट्र की राजनीतिक पार्टियां राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होने के बावजूद सरकार बनाने का अपना दावा पेश कर सकती हैं. लोकसभा के पूर्व प्रधान सचिव पी.डी.टी. आचारी ने कहा, "राष्ट्रपति ने अभी विधानसभा को भंग नहीं किया है, इसलिए राजनीतिक पार्टियां संख्या बल जुटाकर सरकार बनाने का दावा अभी भी पेश कर सकती हैं." सुप्रीम कोर्ट 1994 के एस.आर. बोम्मई मामले के फैसले में उन परिस्थियों के बारे में व्यवस्था दे चुका है, जहां अनुच्छेद 356 के तहत राष्ट्रपति शासन लागू करना जरूरी होता है.  

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, कहा- सरकार बनाने के लिए BJP अभी भी कर रही संपर्क

टिप्पणियां

राज्यपाल के फैसले को शिवसेना द्वारा एकतरफा बताए जाने और समर्थन जुटाने के लिए पर्याप्त समय न दिए जाने की शिकायत पर टिप्पणी करते हुए आचारी ने कहा, "अगर सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दायर कर राष्ट्रपति शासन को चुनौती दी जाए, तब राज्य में सरकार बनाई जा सकती है." वहीं, लोकसभा के एक और पूर्व प्रधान सचिव सुभाष कश्यप ने कहा, "राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद दो परिदृश्य बन सकते हैं, राष्ट्रपति विधानसभा भंग सकते हैं और जल्द चुनाव कराने के लिए कह सकते हैं या विधानसभा को निलंबित रखकर राजनीतिक पार्टियों को सरकार बनाने के लिए राज्यपाल के समक्ष दावा पेश करने की अनुमति दे सकते हैं." कश्यप ने कहा कि राज्यपाल की प्राथमिकता है कि वह राज्य में सरकार का गठन होने दें. 


VIDEO: महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन, राज्यपाल की सिफारिश को राष्ट्रपति की मंजूरी



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... 15 दस्तावेज देकर भी खुद को भारतीय साबित नहीं कर पाई असम की जाबेदा, कानूनी लड़ाई में खो बैठी सब कुछ

Advertisement