NDTV Khabar

महाराष्ट्र में टूटा BJP-शिवसेना का गठबंधन, लेकिन कांग्रेस के लिए बना वरदान, 20 वर्षों में...

Maharashtra Government 2019: महाराष्ट्र में सियासी गतिरोध भले ही बरकरार हो, लेकिन हालिया घटनाक्रम को लेकर कहा जा रहा है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) काफी खुश हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र में टूटा BJP-शिवसेना का गठबंधन, लेकिन कांग्रेस के लिए बना वरदान, 20 वर्षों में...

Maharashtra News: शरद पवार और सोनिया गांधी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. महाराष्ट्र में सरकार गठन पर तकरार जारी
  2. बीजेपी और शिवसेना के रास्ते हुए अलग
  3. इसके बाद कांग्रेस और एनसीपी आए साथ
नई दिल्ली :

महाराष्ट्र (Maharashtra) में सियासी गतिरोध भले ही बरकरार हो, लेकिन हालिया घटनाक्रम को लेकर कहा जा रहा है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) काफी खुश हैं. राज्य में Congress, NCP, Shiv Sena सरकार गठन के लिए कॉमन मिनिमम प्रोग्राम को अंतिम रुप देने में जुटे हुए हैं. पार्टी सूत्रों ने कहा कि राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिवसेना के अलग होने के कारण विभाजित कांग्रेस और उसकी सहयोगी शरद पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) एक बार फिर एकजुट हो गई हैं. उनके लिए यह घटनाक्रम किसी वरदान से कम नहीं है. हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में बहुमत मिलने के बाद भी मुख्यमंत्री पद की दावेदारी को लेकर भाजपा-शिवसेना का गठबंधन टूट चुका है. राज्य में कांग्रेस 20 वर्षो से कांग्रेस और राकांपा के रूप में विभाजित रही है और साथ ही भारी मतभेदों को झेलने के बाद भी एक-दूसरे का समय-समय पर सहयोग करती आई है. 

महाराष्ट्र में जारी सियासी गतिरोध पर बोले नितिन गडकरी- क्रिकेट और राजनीति में कुछ भी हो सकता है


वर्ष 1999 से 2014 तक कांग्रेसी और राकांपा के कार्यकर्ता अंदरूनी खींचतान और एक-दूसरे के साथ लड़ाई लड़ने में व्यस्त रहे और अनजाने में अपने प्रतिद्वंद्वियों को राजनीतिक लाभ दिया. यहां तक कि अक्टूबर के अंत तक, दोनों पार्टियों के पुरुष और महिला कार्यकर्ता आपस में राजनीतिक बयानबाजी करने में लगे हुए थे. पार्टियों ने एक-दूसरे की छवि को धूमिल किया. इसमें शक्तिशाली मुंबई कांग्रेस भी शामिल थी, इसका परिणाम यह हुआ कि लोकसभा और विधानसभा, दोनों ही चुनावों में गंभीर नतीजे सामने आए.  

BJP-शिवसेना की 'दोस्ती' टूटने के बाद मुंबई में BMC के ठेकेदारों पर इनकम टैक्स की रेड

टिप्पणियां

इस बार अक्टूबर में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 44 और राकांपा को 54 सीटों पर जीत मिली, वहीं वर्ष 2014 में यह आंकड़ा क्रमश: 42 और 41 था। दोनों दल का मनोबल तो जरूर बढ़ा, लेकिन दोनों अभी सरकार बनाने से बहुत दूर हैं. दोनों सहयोगी पाíटयां सरकार भले ही न बना पाएं, मगर भाजपा-शिवसेना का गठबंध टूटने और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से शिवसेना के अलग होने इनकी स्थिति राज्य में और मजबूत दिखाई दे रही है.  

VIDEO: शिवसेना ने ऐसी शर्तें रखीं जो स्वीकार्य नहीं: अमित शाह



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement