NDTV Khabar

रेमंड संपत्ति विवाद: संपत्ति के मामले को कोर्ट से बाहर ही सुलझाएंगे सिंघानिया पिता-पुत्र

उद्योगपति विजयपत सिंघानिया और उनके बेटे गौतम सिंघानिया के वकीलों ने बंबई उच्च न्यायालय को बताया कि दोनों संपत्ति विवाद सुलझाने के लिए बैठक के लिए तैयार हैं.

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रेमंड संपत्ति विवाद: संपत्ति के मामले को कोर्ट से बाहर ही सुलझाएंगे सिंघानिया पिता-पुत्र

बंबई हाईकोर्ट ने सिंघानिया संपत्ति विवाद को आपस में सुलझाने की सलाह दी है

मुंबई: बुजुर्ग उद्योगपति विजयपत सिंघानिया और उनके बेटे गौतम सिंघानिया के वकीलों ने बंबई उच्च न्यायालय को बताया कि दोनों संपत्ति विवाद सुलझाने के लिए इस सप्ताह बैठक के लिए तैयार हैं. उच्च न्यायालय ने पिछले महीने पिता-पुत्र दोनों को सुझाव दिया था कि वे अपने वकीलों के साथ बैठक करें और सौहार्दपूर्ण हल निकालने की कोशिश करें क्योंकि यह मामला व्यक्तिगत है.

यह भी पढ़ें: मेरा बेटा इतना गिर चुका है कि मैं उससे बात नहीं कर सकता: विजयपत सिंघानिया

विजयपत सिंघानिया ने रेमंड लिमिटेड के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक गौतम के खिलाफ आरोप लगाया था कि वह एक संपत्ति को लेकर पारिवारिक विवाद में निपटारे के फैसले का पालन करने से मना कर रहे हैं. इसी बात को लेकर सिंघानिया ने गौतम के खिलाफ बंबई उच्च न्यायालय का रुख किया था. उन्होंने आरोप लगाया कि फैसले के हिसाब से उन्हें दक्षिणी मुंबई में स्थित बहुमंजिला जेके हाउस में डुप्लेक्स फ्लैट मिलना था जो रेमंड ने अब तक दिया नहीं है.

सिंघानिया के वकील दिन्यार मैडोन और रेमंड के वकील जनक द्वारकादास ने न्यायमूर्ति जीएस कुलकर्णी की पीठ को सूचित किया कि दोनों पक्ष विवाद सुलझाने के लिए इस सप्ताह बैठक करने को तैयार हैं. इसके बाद अदालत ने मामले की अगली सुनवाई 11 सितंबर को तय कर दिया. न्यायलय ने कहा कि तब तक के लिए जेके हाउस के दो तलों के रेमंड द्वारा बेचे जाने या लीज पर दिये जाने पर रोक का अंतरिम आदेश लागू रहेगा क्योंकि यह संपत्ति विवादित है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement