महाराष्ट्र : सामने आया सरकार गठन का नया फॉर्मूला, ढाई-ढाई साल रह सकते हैं शिवसेना-NCP के CM, कांग्रेस का होगा डिप्टी CM

महाराष्ट्र में सरकार बनाने का एक नया फ़ॉर्मूला भी सामने आ रहा है. सूत्रों के मुताबिक ढाई-ढाई साल शिवसेना और NCP का मुख्यमंत्री होगा और पूरे 5 साल के लिए कांग्रेस का उपमुख्यमंत्री होगा.

महाराष्ट्र : सामने आया सरकार गठन का नया फॉर्मूला, ढाई-ढाई साल रह सकते हैं शिवसेना-NCP के CM, कांग्रेस का होगा डिप्टी CM

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

खास बातें

  • महाराष्ट्र में सरकार गठन पर गतिरोध जारी
  • इस बीच सामने आया नया फॉर्मूला
  • शिवसेना और एनसीपी साझा कर सकते हैं सीएम पोस्ट
नई दिल्ली :

महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार गठन पर गतिरोध जारी है. इस बीच कांग्रेस और एनसीपी की साझा प्रेस कान्फ़्रेंस के बाद उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कहा कि सरकार बनाने को लेकर शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी से बातचीत करती रहेगी. इधर महाराष्ट्र में सरकार बनाने का एक नया फ़ॉर्मूला भी सामने आ रहा है. सूत्रों के मुताबिक ढाई-ढाई साल शिवसेना और NCP का मुख्यमंत्री होगा और पूरे 5 साल के लिए कांग्रेस का उपमुख्यमंत्री होगा. साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर बीजेपी और महबूबा मुफ़्ती वैचारिक मतभेदों को दूर करते हुए साथ काम कर सकते हैं तो मौजूदा स्थिति में उनकी पार्टी कांग्रेस और एनसीपी के साथ काम करने का फ़ॉर्मूला खोज़ लेंगे. 

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, कहा- सरकार बनाने के लिए BJP अभी भी कर रही संपर्क

Newsbeep

उद्धव ठाकरे ने ये भी कहा कि बीजेपी के PDP और नीतीश के साथ समझौते की जानकारी मंगवाई है, जिससे ये समझ सकें की अलग-अलग विचारधारा वाले दल कैसे साथ आते हैं. एक सवाल के जवाब में उद्धव ने ये भी कहा कि विकल्प बीजेपी ने ख़त्म किए हैं, उनकी पार्टी ने नहीं. बता दें कि शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को ही कहा था कि भारतीय जनता पार्टी भाजपा महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए अनाधिकारिक माध्यमों से अभी भी संपर्क कर रही है. ठाकरे ने कहा, "वे हर बार अस्पष्ट और अलग-अलग प्रस्ताव दे रहे हैं. लेकिन हमने कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ जाने का निर्णय लिया है."  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन, राज्यपाल की सिफारिश को राष्ट्रपति की मंजूरी