NDTV Khabar

मुंबई, बेंगलुरु के मसाज पार्लरों में बढ़ी थाईलैंड के सेक्स स्लेव्स की मांग

यह बात पुलिस राजनयिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं की एक बैठक में निकलकर सामने आई.

16 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई, बेंगलुरु के मसाज पार्लरों में बढ़ी थाईलैंड के सेक्स स्लेव्स की मांग

थाईलैंड की सेक्स वर्कर (प्रतीकात्मक फोटो)

खास बातें

  1. देश में थाई सेक्स वर्करों की मांग बढ़ी
  2. स्पा और मसाज पार्लर की आड़ में चल रहा धंधा.
  3. मुंबई और पुणे में पकड़ी गई लड़कियां
मुंबई: देश में स्पा और मसाज पार्लर का काम तेजी से बढ़ता जा रहा है और साथ ही बढ़ रही है थाइलैंड की महिलाओं की मांग, जिन्हें धोखे से और मानव तस्करी के जरिए देश की सेक्स इंडस्ट्री में घसीटा जा रहा है. यह बात पुलिस राजनयिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं की एक बैठक में निकलकर सामने आई. इस साल अब तक करीब 40 थाई महिलाओं को अलग अलग रेड में बचाया जा चुका है. यह रेड पुणे और मुंबई के मसाज पार्लर और स्पा पर डाले गए थे. बताया जा रहा है कि पार्लर की आड़ में इन महिलाओं से वैश्यावृत्ति कराई जा रही थी.

समाज सेविका ज्योति नाले ने बताया कि थाईलैंड की मसाज करने वाली लड़कियों को उनकी गोरी चमड़ी की वजह से हाई प्रोफाइल समझा जाता है और इसलिए भारत में उनकी मांग बढ़ गई है. उन्होंने बताया कि जुलाई में 10 थाई महिलाओं को पुणे के पोश इलाके में स्थित एक पार्लर से बचाया गया. उल्लेखनीय है कि नेपाल और बांग्लादेश से पहले लड़कियों को भारत में सेक्स वर्क के लिए तस्करी के जरिए लाया जाता था.

यह भी पढ़ें : मसाज की आड़ में देह व्यापार का धंधा चलाने वाली मालकिन सहित दो गिरफ्तार

पुलिस और इस क्षेत्र में समाजसेवा के कार्य में लगे लोगों का कहना है कि भारतीय और विदेशी सैलानी पुरुषों में एक्जॉटिक महिलाओं की मांग रहती है. इसमें थाईलैंड की भी महिलाएं होती हैं.

यह भी पढ़ें : 1000 लोगों से बनवाए जबरन शारीरिक संबंध, 2 साल तक मोटल में बंधक बनाकर रखा

पुणे में तैनात पुलिस इंस्पैक्टर संजय पाटिल ने बताया कि इस प्रकार का रुझान हम पहली बार देख रहे हैं. पाटिल ने बताया कि वह ज्यादा पढ़ी लिखी नहीं होती, गरीब परिवार से होती हैं और उनका परिवार उनके द्वारा कमाई पर ही निर्भर रहता है. उन्होंने बताया कि सूचना मिलने के बाद पुलिस का एक आदमी ग्राहक बनकर गया और पता चला कि सेक्स के लिए थाईलैंड की 25-40 साल की महिलाओं को उपलब्ध कराया जा रहा है.

यह भी पढ़ें : सेक्स रैकेट चलाने के आरोप में एक महिला गिरफ्तार, लड़कियों को देती थी अच्छी नौकरियों की लालच

पुलिस ने बताया कि इन महिलाओं को भारत में ज्यादा कमाई का लालच भी दिया जाता है. पुलिस का कहना है कि थाईलैंड की तुलना में ये महिलाओं भारत में दोगुना कमाई कर लेती हैं. रेड में पकड़ी गई लड़कियों को करीब चार-पांच महीने से यहां पर रखा गया था और एक महिला के पास करीब 1 लाख रुपये थे. उन्हें शेल्टर होम में रखा गया है और कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद भेज दिया जाएगा.
VIDEO : देह व्यापार का दलदल

थाई एंबेसी का कहना है कि नई दिल्ली, जयपुर और बेंगलुरु से भी कई थाई महिलाओं को बचाया गया है. उन्होंने कहा कि जब इन्हें स्वदेश भेजा जाएगा तब इनके पुनर्वास की व्यवस्था की जाएगी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement