NDTV Khabar

उद्धव ठाकरे ने पटाखों पर बैन के प्रस्ताव को लेकर अपनी ही पार्टी के मंत्री की खिंचाई की

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में पटाखों की बिक्री पर बैन लगाने के विचार को खारिज कर दिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उद्धव ठाकरे ने पटाखों पर बैन के प्रस्ताव को लेकर अपनी ही पार्टी के मंत्री की खिंचाई की

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

मुंबई: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में पटाखों की बिक्री पर बैन लगाने के विचार को खारिज कर दिया है. उनकी ही पार्टी के नेता और राज्य के मंत्री रामदास कदम ने पर्यावरण की रक्षा के लिए पटाखों पर प्रतिबंध की मांग की थी. इसके एक दिन बाद शिवसेना प्रमुख ने इस विचार को नामंजूर कर दिया. हिंदू त्योहार के दौरान समारोहों पर कथित नियंत्रण की निंदा करते नजर आए उद्धव ने कहा, 'अभी तक बस यही चीज नहीं कही है कि पंचाग फाड़ दो, क्योंकि त्योहार छल-कपट हैं. आखिरकार त्योहार अपनी चमक खो चुके हैं.' कदम ने मंगलवार को मंत्रालय में स्कूली बच्चों को पर्यावरण के अनुकूल दिवाली मनाए जाने की शपथ दिलाई थी. उन्होंने दिल्ली-एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की राह पर चलते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से राज्य में पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाए जाने की मांग की थी.

यह भी पढ़ें : जानें मध्य प्रदेश के मंत्री ने क्यों कहा, दिल्लीवासी भोपाल में मनाएं दिवाली

टिप्पणियां
कदम के बयान से मुकरते हुए शिवसेना ने कहा कि वह हिन्दू भावनाओं के खिलाफ किसी भी कार्रवाई का समर्थन नहीं करेंगी. उन्हें अपने बयान के लिए पार्टी के अपने सहयोगी संजय राउत और एमएनएस प्रमुख राज ठाकरे से आलोचना का सामना करना पड़ा था. इसके बाद कदम ने बुधवार को कहा, 'मैंने यह कभी नहीं कहा कि राज्य सरकार प्रतिबंध के बारे में विचार कर रही है.'

VIDEO : दिल्ली में इस बार मनेगी 'साइलेंट' दिवाली
उन्होंने कहा, 'मैंने यह कहा था कि यह मुद्दा संवेदनशील है और यदि प्रतिबंध लगाना पड़ा तो इस पर उद्धव ठाकरे तथा मुख्यमंत्री फडणवीस विचार करेंगे और नीतिगत निर्णय लेंगे.' (इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement