छत्रपति शिवाजी की जयंती पर उद्धव ठाकरे ने दी श्रद्धांजलि, बोले- उनकी विरासत आगे ले जाने के लिए प्रतिबद्ध

ठाकरे ने शिवाजी के जन्मस्थल शिवनेरी दुर्ग में पालना समारोह में हिस्सा लिया और किले में विकास कार्य का मुआयना किया.

छत्रपति शिवाजी की जयंती पर उद्धव ठाकरे ने दी श्रद्धांजलि, बोले- उनकी विरासत आगे ले जाने के लिए प्रतिबद्ध

उद्धव ठाकरे ने शिवाजी महाराज को श्रद्धांजिल अर्पित की और शिवनेरी दुर्ग का मुआयना किया.

खास बातें

  • छत्रपति शिवाजी की जयंती पर उद्धव ठाकरे ने श्रद्धांजलि दी
  • ठाकरे ने कहा कि शिवाजी की विरासत को आगे ले जाएंगे
  • शिवाजी महाराज ने मराठा साम्राज्य की स्थापना की थी
मुंबई:

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी की 390वीं जयंती पर कहा कि उनकी सरकार शिवाजी की विरासत आगे ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है. ठाकरे ने पुणे के जुन्नार तालुका स्थित शिवनेरी किले में पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की और किले के निर्माण के लिए 23 करोड़ रुपये देने की भी घोषणा की. शिवाजी का जन्म 19 फरवरी 1630 को शिवनेरी दुर्ग में हुआ था. ठाकरे ने वहां पालना समारोह में हिस्सा लिया और किले में विकास कार्य का मुआयना करने के बाद कहा, ‘‘गरीब और जरूरतमंदों को लगता है कि यह उनकी सरकार है. इसलिए इतनी ज्यादा संख्या में लोग ‘शिव जयंती' के कार्यक्रम में यहां पहुंचे हैं. हमारी सरकार छत्रपति शिवाजी महाराज की विरासत को आगे ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है.''

Shivaji Jayanti: छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती पर अमिताभ बच्चन का Tweet, बोले- यह शब्द नहीं बल्कि...

उन्होंने कहा कि शिवनेरी किले के विकास के लिए 23 करोड़ रुपए के कोष की मंजूरी भी दी गई है. इस मौके पर उपमुख्यमंत्री अजित पवार भी मौजूद थे. ठाकरे ने कहा, ‘‘मैं और अजित दादा (पवार) कुछ अच्छा रचनात्मक काम करने के लिए साथ आए हैं और संकल्प लेते हैं कि इसके पूरा ना होने तक शांत नहीं बैठेंगे.'' ठाकरे ने पवार से कहा कि ‘‘लंबा सफर तय करने के लिए उन्हें साथ आना चाहिए.'' उन्होंने कहा कि छत्रपति शिवाजी के किले और संग्रहालय को संरक्षित करने के लिए हर कदम उठाया जाएगा.

Chhatrapati Shivaji Jayanti 2020: इन मैसेज और स्टेटस के साथ अपनों को दें Shivaji Jayanti की शुभकामनाएं

उन्होंने कहा, ‘‘हम सुनिश्चित करते हैं कि कोष की कोई कमी नहीं आएगी.'' साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि 2018 के मराठा आरक्षण आंदोलन के दौरान प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस ले लिया जाएगा. शिवसेना प्रमुख ने इससे पहले ट्विटर पर भी शिवाजी को श्रद्धांजलि दी और ‘शिव जयंती' पर राज्य के लोगों को शुभकामनाएं दीं. ‘शिव जयंती' की आधिकारिक तारीख 19 फरवरी है, लेकिन शिवसेना का मानना है कि शिवाजी महाराज की जयंती हिंदू कैलेंडर के अनुसार मनाई जानी चाहिए.

Shivaji Jayanti: छत्रपति शिवाजी महाराज ने रखी थी मराठा सम्राज्य की नींव, जानिए उनसे जुड़ी ये 5 बातें

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कांग्रेस की राज्य इकाई के प्रमुख बालासाहेब थोराट और पार्टी के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण ने भी ट्विटर पर शिवाजी महाराज को याद किया. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी और ट्वीट किया कि उनका साहस और उनकी प्रशासनिक कुशलता अतुलनीय है. राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने भी उन्हें याद करते हुए ट्वीट किया, ‘‘ छत्रपति शिवाजी महाराज को उनकी जयंती पर नमन.''