NDTV Khabar

उद्धव ठाकरे की छुट्टियों के चलते टल गया मुंबई-गोवा हाईवे पर पुल का उद्घाटन

पिछले साल महाराष्ट्र के महाड तहसील में मुम्बई - गोवा हाईवे पर बना पुल टूटने की वजह से कई लोगों की मौत हुई थी

568 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
उद्धव ठाकरे की छुट्टियों के चलते टल गया मुंबई-गोवा हाईवे पर पुल का उद्घाटन

गत वर्ष मुंबई-गोवा हाईवे पर सावित्री नदी पर बना पुल बह गया था. इसकी जगह नया पुल बनाया गया है.

खास बातें

  1. तेजी से काम होने पर नए पुल का मानसून पूर्व निर्माण मुमकिन हो सका
  2. सावित्री नदी पर बने नए पुल का उद्घाटन 6 जून को होना तय था
  3. उद्धव ठाकरे के 12 जून तक भारत लौटने की संभावना कम
मुंबई: शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे की छुट्टियों की वजह से एक अहम जनसुविधा का जनता के लिए इस्तेमाल लम्बा खिंच गया है. हर साल की तरह इस साल भी उद्धव ठाकरे सपरिवार विदेश में गर्मियों की छुट्टियां मनाने गए हैं.

पिछले साल महाराष्ट्र के महाड तहसील में मुम्बई - गोवा हाईवे पर बना पुल टूटने की वजह से कई लोगों की मौत हुई थी. भारी बारिश के चलते सावित्री नदी पर बना ब्रिटिशकालीन पुल दो अगस्त 2016 को रात 11. 30 के आसपास बह गया था. इस वजह से राज्य परिवहन की दो बसों समेत कई वाहनों में सवार यात्री काल की चपेट में आ गए थे.

इस भयंकर हादसे के बाद नए पुल के निर्माण की मांग बढ़ी. इसे देखते हुए केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने 180 दिनों में तेजी से पुल बनाने के आदेश दिए और काम पर सतत निगरानी की. इस वजह से नए पुल का मानसून पूर्व निर्माण मुमकिन हो सका. इसे देखते हुए सावित्री नदी पर बने नए पुल के उद्घाटन के हेतु 6 जून की तारीख भी मुकर्रर की गई. शिवसेना के मुखपत्र सामना में इस तारीख का ऐलान हुआ और साथ में कहा गया कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे, एक साथ इस पुल का उद्घाटन करेंगे. मौजूदा स्थिति में इलाके में एक ही पुल के जरिए आवाजाही चल रही है. जो कई बार इस राष्ट्रीय राजमार्ग पर ट्रैफिक जाम का कारण हो रही है. ऐसे में नए पुल के जल्द उद्घाटन की जरूरत थी.

लेकिन, पुल निर्माण विभाग के सूत्र बता रहे हैं कि अब उद्घाटन करीब 10 दिन टालना पड़ रहा है. क्योंकि उद्धव ठाकरे फिलहाल परिवार समेत विदेश में गर्मियों की छुट्टियां मना रहे हैं और 12 जून तक उनके भारत लौटने की संभावना कम ही है. उद्धव हर साल अमूमन मई-जून के दौरान राजनीति को गुडबाय कर ऐसे देश में जाते हैं जहां तब गर्मी का प्रकोप नहीं होता.

इस बार की ठाकरे की छुट्टियों के चलते एक जनसुविधा को लोगों के लिए खोल देने में देरी हो रही है. जबकि इसके उद्घाटन की तारीख और कार्यक्रम उन्हीं की पार्टी के मुखपत्र में घोषित हो चुका था.

कोंकण में मानसून का आगमन अमूमन जून के पहले हफ्ते के आसपास हो जाता है. ऐसे में केवल नेताजी की छुट्टियों की वजह से बारिश के बाद अगर नदी के ऊपर का पुल खोलने की नौबत आई तो यह जनता के लिए परेशानी में इजाफा करने वाली बात ही होगी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement