MCD चुनाव में क्यों पड़े कम वोट? नफे-नुकसान का आकलन करने में जुटी बीजेपी

MCD चुनाव में क्यों पड़े कम वोट? नफे-नुकसान का आकलन करने में जुटी बीजेपी

दिल्ली नगर निगम चुनाव में रविवार को 270 सीटों पर मतदान हुआ

खास बातें

  • दिल्लीवालों में MCD चुनाव को लेकर दिखी उदासीनता
  • मतगणना से पहले ही बीजेपी कर रही है जीत का दावा
  • मोदी लहर बनी हुई है, केजरीवाल सरकार से लोग परेशान : हर्षवर्धन
नई दिल्ली:

दिल्ली के तीन नगर निगमों के लिए रविवार को मतदान शांतिपूर्वक संपन्न हो गया. मतदान को लेकर दिल्ली वालों ने उत्साह नहीं दिखाया, नतीजतन 4 बजे तक के आंकड़ों के मुताबिक सिर्फ 46 फीसदी वोटिंग दर्ज हुई. नगर निगम चुनाव के नतीजे 26 तारीख़ को आएंगे, लेकिन बीजेपी अभी से जीत के दावे कर रही है. हालांकि मतदान कम होने से बीजेपी इसके नफे नुकसान के आकलन में जुटी है.

चुनाव प्रचार में जी-जान से जुटने के बाद दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी आम आदमी दिखने की कोशिश करते नज़र आए. घर के लिए सब्ज़ी ख़रीदी. नगर निगम में उनका अपना वोट नहीं है, इसलिए उन्होंने मतदान नहीं किया, लेकिन पोलिंग बूथ का जायज़ा लेने कई जगहों पर पहुंचे. उनके और केजरीवाल के बीच मतदान के दिन भी जुबानी जंग चलती रही.
 

manoj tiwari purchasing vegetables

मनोज तिवारी ने कहा कि केजरीवाल जनता को धमकाने वाले बयान देते हैं और सिर्फ डेंगू और चिकनुनिया पर राजनीति कर रहे हैं. तिवारी ने कहा कि हमने केजरीवाल के खिलाफ़ इस मुद्दे को लेकर FIR भी कराई है. मनोज तिवारी ने दावा किया कि बीजेपी को 225 से अधिक सीटें हासिल होंगी.

सुबह केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन अपनी मां को लेकर मतदान करने पहुंचे. अपनी पार्टी की जीत सुनिश्चित करने नेता तो मतदान केंद्रों तक पहुंचे, लेकिन जनता में उत्साह नज़र नहीं आया. वोटिंग कम होने की वजह से बीजेपी के बड़े नेता इसके नफे नुकसान की पड़ताल में जुटे हैं. हर्षवर्धन ने दावा किया कि मोदी लहर बनी हुई है, जबकि केजरीवल के दो साल के शासन से लोग परेशान हैं, इसलिए हमारी ही सरकार बनेगी.

वहीं यह पूछे जाने पर कि क्या एमसीडी चुनाव दिल्ली में आम आदमी पार्टी सरकार के दो साल के प्रदर्शन पर जनमत संग्रह है, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बुधवार को परिणाम सामने आएंगे, हम तब देखेंगे. वहीं उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 10 साल तक नगर निगम में सत्ता पर काबिज भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि यदि लोग गंदगी, कचरे के ढेर, भ्रष्टाचार से परेशान हैं, तो उन्हें भाजपा के खिलाफ मतदान करना चाहिए.

वहीं कांग्रेस को उम्मीद है कि मतदाता शासन-प्रशासन में उसके पुराने कामों को याद करते हुए निगम चुनाव में पार्टी की जीत सुनिश्चित करेंगे. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने कहा कि दिल्ली के लोग कांग्रेस के बेहतर प्रशासन को अब याद करते हैं.

उन्होंने कहा कि नगर निगम में भाजपा और दिल्ली सरकार में आम आदमी पार्टी के कुशासन से लोग बुरी तरह से परेशान हैं, इसलिए निगम चुनाव में बेहतर प्रशासन ही मुख्य मुद्दा है. उन्होंने कहा कि भाजपा और आप के बीच जुबानी जंग से जनता आजिज आ चुकी है. दोनों पार्टियां अपनी प्रशासनिक विफलता को छुपाने के लिए आरोप-प्रत्यारोप की जुबानी जंग में जनता को उलझाने की कोशिश कर रहे हैं.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com