NDTV Khabar

अजय माकन ने ली एमसीडी चुनाव में कांग्रेस की हार की जिम्मेदारी, प्रदेश अध्यक्ष पद छोड़ा

2.1K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अजय माकन ने ली एमसीडी चुनाव में कांग्रेस की हार की जिम्मेदारी, प्रदेश अध्यक्ष पद छोड़ा

अजय माकन

खास बातें

  1. दिल्ली नगर निगम चुनाव में तीसरे नंबर पर रही कांग्रेस
  2. अजय माकन ने ली कांग्रेस के हार की जिम्मेदारी
  3. अजय माकन ने प्रदेश अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा
नई दिल्ली: दिल्ली नगर निगम (MCD) चुनावों में कांग्रेस तीसरे नंबर पर रही है. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने कांग्रेस की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उनका इस्तीफा कबूल किया है या नहीं? इस्तीफा से पहले अजय माकन ने एमसीडी चुनाव परिणाम पर कहा कि कांग्रेस ने जिम्मेदारी के साथ वापसी की है, लेकिन हमे इससे बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद थी. उन्होंने कहा कि वे आम कार्यकर्ताओं की तरह पार्टी के लिए काम करना चाहते हैं.

शीला ने कांग्रेस की हार के लिए माकन को जिम्मेदार ठहराया

इससे पहले दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित ने हार के लिए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा क्योंकि दिल्ली में कांग्रेस का नेतृत्व उन्हीं के हाथों में था इसलिए हार के लिए भी वही जिम्मेदार हैं.

कांग्रेस की अंदरूनी कलह पर शीला दीक्षित का कहना है कि पार्टी में नाराज लोगों को मनाया जाता है और जिसके हाथ में कमान है उसे ही ये काम करना पड़ता है, लेकिन हमारे यहां इसके ठीक उल्टा हुआ है. 

कांग्रेस की वरिष्‍ठ नेता और दिल्‍ली में लगातार तीन बार मुख्‍यमंत्री रहने वाली शीला दीक्षित ने एमसीडी चुनावों में कांग्रेस की करारी हार के बाद पार्टी को सलाह देते हुए कहा है,''यह जनता का जनादेश है, इसे सम्‍मान के साथ स्‍वीकार किया जाना चाहिए.'' कांग्रेस एमसीडी चुनावों में तीसरे पायदान पर रही. बीजेपी ने दो तिहाई बहुमत के साथ जीत हासिल की है. अरविंद केजरीवाल की आप दूसरे स्‍थान पर रही.

टिप्पणियां
शीला दीक्षित से जब कांग्रेस की हार के बारे में पूछा गया तो उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस ने दरअसल आक्रामक प्रचार नहीं किया. इस वजह से कांग्रेस पिछड़ गई. कांग्रेस के किसी भी कद्दावर या बड़े नेता ने 270 वार्डों में प्रचार नहीं किया. जब उनसे पूछा गया कि आपने प्रचार क्‍यों नहीं किया तो शीला दीक्षित ने कहा, '''मैंने इसलिए प्रचार नहीं किया क्‍योंकि पार्टी ने इसके लिए मुझे आमंत्रित नहीं किया. मैं अपने आप से तो ऐसा नहीं कर सकती थी.'

उल्‍लेखनीय है कि एमसीडी चुनावों से पहले कांग्रेस को काफी नुकसान पड़ा. पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं अरविंदर लवली और बरखा शुक्‍ला सिंह ने ऐन चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया. वरिष्‍ठ नेता एके वालिया की नाराजगी का भी पार्टी को सामना करना पड़ा. दिल्‍ली कांग्रेस अध्‍यक्ष अजय माकन के नेतृत्‍व में कांग्रेस ने चुनाव लड़ा. इन सब पर बोलते हुए शीला दीक्षित ने कहा, ''जब भी हम हारते हैं तो कुछ न कुछ सीखते ही हैं.''
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement