NDTV Khabar

मध्‍य प्रदेश में गायों की चारागाह की जमीन पर पांच सितारा गोल्‍फकोर्स बनाने की तैयारी

कांग्रेस का आरोप है कि अपने अफसरों को गोल्फ खिलाने के लिए मुख्यमंत्री गाय की ज़मीन से गोल्फ का सौदा कर रहे हैं. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 100 एकड़ इलाके में गोल्फ कोर्स बनेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्‍य प्रदेश में गायों की चारागाह की जमीन पर पांच सितारा गोल्‍फकोर्स बनाने की तैयारी
भोपाल:

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार भोपाल में गौवंश के चारागाह की ज़मीन पर गोल्फ कोर्स बनाने की तैयारी कर रही है. दो दिन पहले ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गाय की रक्षा के लिए अलग से गौ मंत्रालय बनाने का ऐलान किया था. कांग्रेस का आरोप है कि अपने अफसरों को गोल्फ खिलाने के लिए मुख्यमंत्री गाय की ज़मीन से गोल्फ का सौदा कर रहे हैं. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 100 एकड़ इलाके में गोल्फ कोर्स बनेगा. शिवराज सरकार ने केरवा डैम के पास ज़मीन के लिए मंज़ूरी दे दी. मगर ये ज़मीन उस 650 एकड़ ज़मीन का हिस्सा है जिसमें अभी बुल मदर फार्म और सीमन सेंटर चलता है. इसमें 600 गायें औऱ सांड रखे गये हैं. जिस ज़मीन को गोल्फ कोर्स के लिए देने की बात की जा रही है वहां चारागाह है.

जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा सरकार ने सैद्धांतिक सहमति दी है, मुख्यमंत्री ने एक दो बातें रखी हैं. चुनाव के साल में बीजेपी के लिए गाय का मसला इतना संवेदनशील है कि राजस्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने कैबिनेट बैठक में गाय की ज़मीन गोल्फ के लिए दिये जाने पर ऐतराज़ जताया. हैरानी की बात ये है कि गोल्फ के मैदान के लिए 100 एकड़ ज़मीन ट्रांसफर किये जाने का प्रस्ताव राजस्व विभाग के पास भेजा ही नहीं गया. हालांकि बाद में उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि पशुपालन विभाग के के पास ज़मीन है नगरीय प्रशासन को दी जा रही है लेकिन वही दी जाएगी जो इस उपयोग की नहीं है.


कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ट्वीट कर इसे सरकार का दोहरा चरित्र बता रहे हैं. पार्टी कह रही है सरकार प्राथमिकताएं तय नहीं कर पा रही. कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा ने कहा इस गरीब प्रदेश में सरकार ने कबड्डी के लिये मैदान तो तैयार किये नहीं हैं, स्कूल के मैदान तैयार किये नहीं लेकिन गोल्फ कोर्स की बात कर रही है, एक तरफ गौशाला की बात करती है दूसरी तरफ चारागाह की जमीन गोल्फ कोर्स को दे देती है. ये अपने आप में दिखाता है कि सरकार अपना संतुलन खो बैठी है.'

असल में कलियासोत में बुलमदर फार्म 650 एकड़ में है. इसमें 225 एकड़ में फार्म बना है. 400 एकड़ डूब क्षेत्र की जमीन गायों के चारागाह के रूप में है. बाकी 25 एकड़ जमीन बंजर है. गोल्फकोर्स के लिए 100 एकड़ जमीन मांगी गई है. इसमें 55 एकड़ पर सीमन सेंटर बना है. जिसमें 30 एकड़ किसानों से अधिग्रहित जमीन है. यहां नस्ल धार के लिए 30 लाख डोज सीमन बनता है. कांग्रेस ने सरकार में आने पर हर पंचायत में गौ शाला खोलने का वादा किया है.

टिप्पणियां

VIDEO: मध्यप्रेदश में गायों की जमीन पर गोल्फ कोर्स?

जवाब में सरकार ने गौ मंत्रालय का पासा फेंक दिया. विधानसभा चुनाव सर पर हैं ऐसे में शिवराज सरकार पर गाय के चारागाह पर गोल्फ खेलना कहीं महंगा साबित ना हो जाए. वो ज़मीन जो किसानों से अधिगृहीत की गई गायों के नाम पर लेकिन जहां रईस गोल्फ स्टिक लहराते नजर आएंगे.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement