NDTV Khabar

भोपाल से जुड़े रहे हैं अबू सलेम के काले कारनामों के तार, यहीं रची गई थी विदेश भागने की साजिश

टाडा कोर्ट ने मुंबई ब्लास्ट में अबू सलेम को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. लेकन फर्जी पासपोर्ट बनाने से लेकर विदेश भागने का सारी साजिश भोपाल में रची गई थी.

3 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
भोपाल से जुड़े रहे हैं अबू सलेम के काले कारनामों के तार, यहीं रची गई थी विदेश भागने की साजिश

2001 में एक एजेंट के माध्यम से अबू सलेम ने भोपाल में फर्जी पासपोर्ट बनाए थे

खास बातें

  1. मुंबई बम धमाकों में अबू सलेम को 25 साल की सज़ा
  2. भोपाल में शिराज ने बनवाए थे अबू सलेम के फर्जी पासपोर्ट
  3. भोपाल में रहकर सलेम ने रची विदेश भागने की साजिश
मुंबई बम धमाकों के मामले में अबू सलेम को 25 साल की सज़ा हुई है. सलेम के देश से भागने की कहानी और वापसी के रास्ते से एक शहर जुड़ता है वो है भोपाल. भोपाल से  सलेम ने अपनी पत्नी समीरा जुमानी और मोनिका बेदी का पासपोर्ट बनवाया था. ये तय हो गया है कि पुर्तगाल से भारत आकर सलेम अब सालों तक जेल में रहेगा. वैसे मुंबई बम धमाकों के बाद उसकी पूरी योजना ज्यूरिख में बसने की थी. इस काम में उसकी मदद की थी, सलेम के पूर्व साथी भोपाल के सैयद अब्दुल जलील यानी शिराज ने. शिराज ने ना सिर्फ तीन पासपोर्ट बनवाने में सलेम की मदद की बल्कि पासपोर्ट में पता भी अपने घर का दिया.

पढ़ें: 1993 मुंबई धमाका : उस 12 मार्च को हुए थे 12 बम धमाके, जानें इस मामले से जुड़ी हर बात

इस काम के लिए साल 2001 भोपाल में एजेंट को 35 हजार रुपये प्रति पासपोर्ट की दर से पासपोर्ट बनवाने का जिम्मा दिया गया. सबके राशन कार्ड भी बनवाए गए. अबू सलेम का दानिश बेग, समीरा जुमानी का रुबीना बेग और मोनिका बेदी का फौजिया उस्मान के फर्जी नाम से पासपोर्ट बनवाए गए थे. ये पासपोर्ट क्षेत्रीय कार्यालय से जारी किए गए. इस पर भोपाल के कोह-ए-फिजा थाने में 2001 में मामला दर्ज कराया गया था.

पढ़ें: लेडी लव मोनिका बेदी से बेइंतहा प्‍यार करता था अंडरवर्ल्‍ड डॉन अबू सलेम

शिराज ने बताया, 'मैंने पासपोर्ट बनवाने के लिये सारे दस्तावेज़ दिए थे. उस वक्त सारे दस्तावेज आसानी से मिल गए थे. कानूनी तरीके से ही पासपोर्ट बना था सिर्फ नाम मेरा था, क्योंकि उस वक्त चेहरे से कोई नहीं जानता था कि सलेम कौन है. पता भी मेरे घर का था क्योंकि उस वक्त हम सब साथ थे. मोनिका के पासपोर्ट में बतौर पति मेरा नाम दर्ज था.'

VIDEO: 1993 मुंबई धमाकों में दोषियों को मिली सज़ा
बाद में इस मामले में शिराज सरकारी गवाह बन गया. शिराज का आरोप है, कई बार सलेम ने उसे जान से मरवाने के लिए शूटर भी भेजे. शिराज ने बताया कि अबू सलेम के पास और भी पासपोर्ट थे. वह नई पहचान बनाकर कहीं और सेट होना चाहता था. ज्यूरिख, लंदन भी उसके प्लान में था. शिराज ने बताया कि उसे जानकारी मिली थी कि सलेम विदेश में सेट होने के बाद उसे मरवा देगा. पासपोर्ट बनवाने के बाद सलेम मोनिका बेदी के साथ भोपाल में भी रहा था. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement