NDTV Khabar

दंतेवाड़ा में पुलिस पर फर्जी एनकाउंटर का आरोप, थाने जा रहे परिजनों और ग्रामीणों को रास्ते में ही रोका गया

हालांकि पुलिस का कहना है कि जंगल में मुठभेड़ हुई जिसमें नक्सली मारा गया. मुठभेड़ में सारे नियमों का पालन हुआ ऐसे में फर्जी मुठभेड़ के आरोप निराधार हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दंतेवाड़ा में पुलिस पर फर्जी एनकाउंटर का आरोप, थाने जा रहे परिजनों और ग्रामीणों को रास्ते में ही रोका गया

ग्रामीणों को पुलिस थाने जाने से रोकती हुई

रायपुर: छत्तीसगढ़ में सुरक्षा बलों और नक्सलियों  के बीच मुठभेड़ पर फिर सवाल उठ रहे हैं. मुठभेड़ के अगले दिन कथित नक्सली का शव लेने बड़ी संख्या में ग्रामीण दंतेवाड़ा में जुटे और पुलिस पर फर्जी मुठभेड़ का आरोप लगाया. हालांकि पुलिस का कहना है कि जंगल में मुठभेड़ हुई जिसमें नक्सली मारा गया. मुठभेड़ में सारे नियमों का पालन हुआ ऐसे में फर्जी मुठभेड़ के आरोप निराधार हैं. डीआईजी बस्तर रेंज पी.सुंदरराज का दावा है, '7 फरवरी को बेंगपाल के आसपास पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई थी. जिसके बाद एक नक्सली का शव बरामद किया गया था. जिनकी शिनाख्त हूंगा के नाम पर हुई थी जिस पर पहले भी कुछ आपराधिक प्रकरण दर्ज थे. 

छत्तीसगढ़ : मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दो इनामी माओवादियों को मार गिराया

डीआईजी का दावा है कि पुलिस पेट्रोलिंग में गई थी वहां पर अचानक हमला हुआ, आत्मरक्षा में पुलिस ने भी गोली चलाई गई. पूरी प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट और मानवाधिकार आयोग के निर्देशों के अनुरूप हुई है बाद में मजिस्ट्रेट से जांच भी कराई जाएगी इसलिये इसमें कुछ ग़लत नहीं हुआ है. वहीं शव लेने जुटे लोगों का आरोप है कि पुलिस जिसे हूंगा बता रही है वो भीमा वट्‌टी है. यही नहीं वह किसी नक्सली मुठभेड़ में नहीं मारा गया है बल्कि पुलिस वालों ने उसे गोली मारी है. परिवार के सदस्य और गांव के लोग इस कार्रवाई के खिलाफ शिकायत करने के लिए किरंदुल थाने जा रहे थे तो उन्हें रास्ते में ही पुलिस के जवानों ने रोक लिया. फिलहाल अब यह जांच के बाद ही पता चल पाएगा कि सच्चाई क्या है. 

टिप्पणियां
वीडियो : मुठभेड़ में 4 जवान शहीद

वहीं प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व करने आई सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी ने अखबार में छपी हूंगा की तस्वीर दिखाते हुए कहा नक्सली कमांडर इतनी ढीली वर्दी कैसे पहन सकता है. उनके परिवार ने बताया कि तीन बजे के आसपास पुलिस उसे घर से पकड़कर ले गई और उल्टा लटकाकर मार डाला. उसकी मां ने बेटे को छुड़वाने की कोशिश की थी. गांववालों का भी कहना है कि पुलिस जिसे हूंगा बता रही है उस भीमा के परिवार में उसकी पत्नी मासो है और तीन बच्चे हैं.


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement