NDTV Khabar

दंतेवाड़ा में विधानसभा उपचुनाव : मतदान अच्छा हुआ, लेकिन नक्सलियों का खौफ बरकरार, देखें VIDEO

कटेकल्याण क्षेत्र में परचेली पोलिंग बूथ से करीब 200 मीटर दूर आईईडी विस्फोटक बरामद किया गया, चिकपाल पोलिंग बूथ के पीठासीन अधिकारी की हार्ट अटैक से मौत

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दंतेवाड़ा में विधानसभा उपचुनाव : मतदान अच्छा हुआ, लेकिन नक्सलियों का खौफ बरकरार, देखें VIDEO

दंतेवाड़ा के विधानसभा उपचुनाव में वोट डालने के बाद नक्सलियों के डर से उंगली पर लगा स्याही का निशान मिटाता हुआ एक ग्रामीण.

खास बातें

  1. लोगों ने वोट डालने के बाद उंगली पर लगा स्याही का निशान मिटाया
  2. दंतेवाड़ा उपचुनाव में एक निर्दलीय सहित नौ प्रत्याशी मैदान में
  3. कांग्रेस की देवती कर्मा और बीजेपी की ओजस्वी मंडावी के बीच मुकाबला
भोपाल:

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा विधानसभा सीट पर उपचुनाव में एक बार फिर 'गन-तंत्र' पर जनतंत्र हावी रहा, बड़ी तादाद में लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. हालांकि कटेकल्याण क्षेत्र में परचेली पोलिंग बूथ से करीब 200 मीटर दूर आईईडी विस्फोटक बरामद किया गया, लेकिन सुरक्षाबलों ने उसे नाकाम कर दिया. वहीं कटेकल्याण इलाके के ही चिकपाल पोलिंग बूथ में तैनात पीठासीन अधिकारी चंद्रशेखर ठाकुर की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई. लोकतंत्र में आस्था होने के बावजूद ग्रामीणों में नक्सलियों का भय कम नहीं था. ग्रामीण वोट डालने के बाद उंगली पर लगा स्याही का निशान मिटाते हुए दिखे.    

दंतेवाड़ा उपचुनाव में एक निर्दलीय सहित नौ प्रत्याशी मैदान में हैं. हालांकि मुख्य मुकाबला कांग्रेस की देवती कर्मा और बीजेपी की ओजस्वी मंडावी के बीच ही है. ओजस्वी बीजेपी विधायक भीमा मंडावी की पत्नी हैं, वहीं देवती कर्मा महेन्द्र कर्मा की पत्नी हैं. दोनों के पतियों ने नक्सली हमले में ही अपनी जान गंवाई है. बीजेपी उम्मीदवार ओजस्वी मंडावी और कांग्रेस की देवती कर्मा दोनों ने पहले मां दंतेश्वरी की पूजा की. सुरक्षा कारणों ने गदापाल में वोट डालने में ओजस्वी मंडावी को वक्त लगा, देवती कर्मा ने सुबह ही फरसपाल में अपना वोट डाल दिया. मतदान के बाद ओजस्वी मंडावी ने कहा जनता मेरे साथ है, सबका समर्थन मिल रहा है. वहीं देवती कर्मा का कहना था कि कांग्रेस को वोट देने वाली जनता ही आगे बढ़ने वाली है.
       
हालांकि इस इलाके में लोकतंत्र के महापर्व का आयोजन इतना आसान नहीं था. नक्सल प्रभावित इंद्रावती के घाटों पर 10 से ज्यादा मोटर बोट लगाई गई थीं. इंद्रावती नदी पार के सारे पोलिंग बूथ को मुचनार और छिंदनार में शिफ्ट किया गया था फिर भी कई बूथों में लोग मतदान के लिए बड़ी तादाद में नहीं पहुंचे. मतदाताओं में खौफ इतना था कि वोट डालने के बाद वे अपने नाखून से स्याही मिटाते दिखे.


छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में BJP विधायक की हत्या का मास्टरमाइंड नक्सली मुठभेड़ में ढेर  

लोकसभा चुनाव के दौरान मतदान से ठीक 48 घंटे पहले 9 अप्रैल को नक्सलियों ने विस्फोट कर बीजेपी विधायक भीमा मंडावी की गाड़ी को उड़ा दिया था. जिसमें मंडावी, उनके ड्राइवर की मौत हो गई. उनके साथ तीन पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे.

Chhattisgarh Attack : छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, बीजेपी विधायक समेत 5 की मौत

दंतेवाड़ा उपचुनाव का नतीजा 27 सितंबर को आएगा. फिलहात मतदान का प्रतिशत 54 है जो बढ़ सकता है. सन 2018 के विधानसभा चुनावों में दंतेवाड़ा में 60.62 फीसद मतदान हुआ था.

VIDEO : बस्तर में लोकतंत्र की जीत

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement