NDTV Khabar

नक्सलियों से लड़ने की ट्रेनिंग देने वाला जंगल वॉरफेयर कॉलेज इन दिनों खुद दहशत में, जानें- पूरा मामला

बस्तर के कांकेर में नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई की ट्रेनिंग देने वाला देश का सबसे बड़ा ट्रेंनिग सेंटर जंगलवार कॉलेज इन दिनों दहशत में हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नक्सलियों से लड़ने की ट्रेनिंग देने वाला जंगल वॉरफेयर कॉलेज इन दिनों खुद दहशत में, जानें- पूरा मामला

पिछले कुछ दिनों से भालुओं ने कॉलेज में आतंक मचा रखा है.

खास बातें

  1. छत्तीसगढ़ के कांकेर में है वॉरफेयर कॉलेज
  2. कई दिनों से भालुओं ने मचा रखा है आतंक
  3. भालू के हमले में जवान भी घायल हो चुके हैं
रायपुर:

बस्तर के कांकेर में नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई की ट्रेनिंग देने वाला देश का सबसे बड़ा ट्रेंनिग सेंटर जंगल वॉरफेयर कॉलेज (Jungle Warfare College Kanker) इन दिनों दहशत में हैं. पिछले कुछ दिनों से भालुओं ने यहां आतंक मचा रखा है. कैंपस के अंदर मौजूद भालू अब अचानक अक्रामक होकर जंगलवार की बिल्डिंगों में तोड़फोड़ कर जवानों पर हमला कर रहे हैं. कॉलेज मेस, बिल्डिंग, दफ्तर हर जगह भालू नज़र आ रहे हैं. मेस में जब जवान खाना खाने पहुंचते हैं, तो यहां भी भालू दस्तक दे रहे हैं. खुले में बनी रसोई में घुसकर बर्तन, सामान और खाने पर टूट पड़ते हैं. दफ्तर को अच्छा खासा नुकसान पहुंचाया कुछ दिनों पहले एक जवान पर हमला कर उसे घायल कर दिया.

0jidk1no

वॉर फेयर कॉलेज के बिग्रेडियर बीके पोनवार ने कहा कि जंगलात में ही जंगल वॉर फेयर ट्रेनिंग की जाती है, अचानक भालुओं की तादाद इस एरिया में बढ़ गई. एक दो हमारे जवानों को पीछे से उन्होंने चोट पहुंचाई. इसके लिये हमनें वन विभाग को सूचना दी है कि इसका कुछ उपाय निकालें तो अच्छा रहेगा. ताकि काउंटर नक्सल ऑपरेशन के प्रशिक्षण में कोई दिक्कत ना आए.2005 में जब कॉलेज की शुरूआत हुई तो पहाड़ी और जंगल को घेरा गया.
 

85pp828

टिप्पणियां

अंदर की पहाड़ी में भालुओं और दूसरे जानवरों का बसेरा था. उस दौरान दो तीन भालू कॉलेज में मौजूद थे. पिछले 14 साल में इनकी तादाद 14 से अधिक हो गई है. इसके अलावा कालेज कैंपस में तेंदुआ, लकड़बघ्घा जैसे कई और जानवर रहते हैं, अब यही जानवर कॉलेज के लिये परेशानी का सबब बन रहे हैं.

jv2ntggg

वन विभाग ने इन भालुओं को पकड़ने के लिये दो पिंजरे लगाए, पिंजड़े में शहद, तेल, खाना रखा लेकिन भालू पकड़ में तो नहीं आए अलबत्ता खाने को जरूर चट कर गये. बहरहाल कोशिश जारी है ताकी जंगल वॉरफेयर कॉलेज में जवानों को जंगली इलाकों में नक्सलियों से लड़ने का प्रशिक्षण मिल सके. (कांकेर से जयंत रंगारी के इनपुट के साथ)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement