NDTV Khabar

जंगलों तक पहुंची पानी की लड़ाई, एक दर्जन से ज्यादा बंदरों की मौत से सनसनी

पानी को लेकर जंग कांक्रीट के जंगलों से निकलकर, असल के जंगलों तक पहुंच गई है. मध्यप्रदेश में देवास के करीब जंगलों में एक दर्जन से ज्यादा बंदरों की लाशें मिली हैं,

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जंगलों तक पहुंची पानी की लड़ाई, एक दर्जन से ज्यादा बंदरों की मौत से सनसनी

बंदरों की मौत की जानकारी गांव वालों ने अधिकारियों को दी

देवास:

पानी को लेकर जंग कांक्रीट के जंगलों से निकलकर, असल के जंगलों तक पहुंच गई है. मध्यप्रदेश में देवास के करीब जंगलों में एक दर्जन से ज्यादा बंदरों की लाशें मिली हैं, वन विभाग के मुताबिक इसकी एक वजह पानी के स्रोत पर अधिकार के लिये बंदरों के बीच लड़ाई हो सकती है. देवास में पुंजापुरा रेंज के जोशी बाबा के जंगल में 12 साल का प्रदीप अपनी बकरियों को चराने गया था, वहां उसने मृत बंदरों को देखा, वापस लौटकर उसने इसकी सूचना ग्रामीणों को दी. जिन्होंने वन-विभाग के अधिकारियों को इस बाबत सूचित किया. गुरूवार को जिला वन अधिकारी पीएन मिश्रा के नेतृत्व में जब टीम वहां पहुंची तो कई बंदरों के शव पेड़ के नीचे, पत्थरों की खोह और खंती में मिले.

vjkband

कर्नाटक के पूर्व मंत्री जनार्दन रेड्डी को मिली राहत, बेल्लारी जा सकेंगे


डीएफओ पीएन मिश्रा ने इस मामले में सभी पहलुओं से जांच शुरू की जिसमें पानी के लिए बंदरों के प्रतिद्वंद्वी समूहों के बीच संभावित लड़ाई भी शामिल है. गुरुवार को गुफाओं के बाहर और बाहर नौ बंदरों को मृत पाया गया था, शुक्रवार को छह और शव पाए गए. उन्होंने कहा कि हम सभी बातों की जांच कर रहे हैं, जिसमें जंगल में पानी के लिए बंदरों के समूहों के बीच संघर्ष की संभावना भी है. जंगल में इस क्षेत्र में रहने वाले बंदरों के लगभग 5-6 समूह हैं जहां नदी सूख गई है, लेकिन कुछ हिस्सों में गड्ढों में पानी है, बंदरों के कुछ समूह जो संख्या में बड़े हैं और उस विशेष हिस्से पर हावी हैं जो छोटे समूह को डरा सकते हैं. 

टिप्पणियां

पीएन मिश्रा के मुताबिक हो सकता है कि हमले के डर से अपनी गुफाओं तक ही सीमित रहे और हीट-स्ट्रोक के कारण उनकी मौत हो गई. मिश्रा ने कहा कि यह थोड़ा अजीब है बंदर शाकाहारी होते हैं और अमूमन लोग ऐसे संघर्षों में शामिल नहीं होते हैं. बंदरों का पोस्टमार्टम करने वाले पुंजापुरा के पशु चिकित्सा विभाग के डॉ. अरुण मिश्रा ने बताया कि अधिक गर्मी और हीटस्ट्रोक के कारण बंदरों की मौत हुई है. शवों के नमूनों को आगे की जांच के लिये सागर फॉरेंसिक लैब भेज दिया गया है. 


 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement