NDTV Khabar

भोपाल होगा देश का पहला ऐसा शहर जहां गायों के अंतिम संस्कार के लिए बनाए जाएंगे मुक्तिधाम, महापौर ने की घोषणा

आलोक शर्मा ने अपने इस फैसले को लेकर कहा कि गाय दूध देती है तो उसकी पूजा होती है जब बंद कर देती है तो आवारा कहने लगते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भोपाल होगा देश का पहला ऐसा शहर जहां गायों के अंतिम संस्कार के लिए बनाए जाएंगे मुक्तिधाम, महापौर ने की घोषणा

प्रतीकात्मक चित्र

भोपाल:

मध्य प्रदेश में गायों को लेकर राजनीति कोई नई बात नहीं है. बीते विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी और कांग्रेस ने वोटरों को लुभाने के लिए कई तरह की घोषणाएं की थी. लेकिन अब भोपाल के महापौर ने गायों को लेकर एक अनोखा फैसला किया है. उन्होंने मरने वाली गायों के अंतिम संस्कार के लिए भोपाल में मुक्तिधाम बनाने की घोषणा की है. उनकी इस घोषणा के बाद भोपाल देश का पहला ऐसा शहर होगा जहां गायों के अंतिम संस्कार के लिए विशेष तौर पर मुक्तिधाम बनाया जाएगा. बात दें कि भोपाल के महापौर आलोक शर्मा बीजेपी से हैं. आलोक शर्मा ने अपने इस फैसले को लेकर कहा कि गाय दूध देती है तो उसकी पूजा होती है जब बंद कर देती है तो आवारा कहने लगते हैं. ऐसे में नगर निगम ने प्रावधान किया था कि बजट में गौ मुक्तिधाम बने जैसे ही जगह मिलेगी गौ मुक्ति धाम बनाएंगे.

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश : गाय चोरी के आरोपियों को मुंह काला कर घुमाया, पुलिस को सौंपा


भोपाल म्यनूसिपिल कॉरपोरेशन पर बीजेपी काबिज है. गौरतलब है कि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में राज्य की हर पंचायत में गौशाला खोलने का वायदा किया था. अब पार्टी कह रही है कि मुक्तिधाम से पहले ज़रूरी है सड़क पर घूमने वाली गायों को गौशाला पहुंचाना. कांग्रेस प्रवक्ता मानक अग्रवाल ने कहा गौ मुक्ति धाम बनाने की बात कह रहे हैं, लेकिन पहले जो गायें सड़क पर पड़े हैं उन्हें गौशाला तक पहुंचाए. सरकार के आकंड़ों के मुताबिक राज्य में कुल मवेशियों की संख्या 2.27 करोड़ है, जिनमें 90 लाख दुधारु हैं. इनमें से 54 लाख तो सिर्फ गाय हैं. 

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: तीसरा विश्‍व युद्ध गाय के कारण होगा : स्‍वामी अखिलेश्‍वरानंद गिरि

गौरतलब है कि इससे पहले मध्यप्रदेश में गायों के लिए एंबुलेंस सेवा चलाने का फैसला किया गया था. उस दौरान सरकार को इसके लिए आम जनता की कड़ी आलोचना भी छेलनी पड़ी थी. आम लोगों का कहना था कि राज्य में मरीजों और घायलों के लिए तो एंबुलेंस मिल नहीं पाती है और सरकार गायों के लिए एंबुलेंस सेवा शुरू करने की तैयारी में है. याद हो कि सरकार ने बाकायदा इसके लिए प्रस्ताव मंडी बोर्ड को भेज दिया था. इस योजना के शुरुआती चरण में तीन जिलों में एंबुलेंस सेवा चलाने की बात कही गई थी.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement