NDTV Khabar

CM कमलनाथ के जन्मदिन पर MP कांग्रेस ने छपवाया विज्ञापन, 'लेकिन ये तारीफ है या फिर...'

मध्य प्रदेश (Madhay Pradesh) के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) के जन्मदिन पर मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी (MPCC) की तरफ से अजीब सा विज्ञापन छापा गया है. तमाम अखबारों में छपे इश्तहार को पढ़कर ये तय करना मुश्किल है कि शुभकामना दी जा रही है या फिर तंज कसा जा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CM कमलनाथ के जन्मदिन पर MP कांग्रेस ने छपवाया विज्ञापन, 'लेकिन ये तारीफ है या फिर...'

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

मध्य प्रदेश (Madhay Pradesh) के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) के जन्मदिन पर मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी (MPCC) की तरफ से अजीब सा विज्ञापन छापा गया है. तमाम अखबारों में छपे इश्तहार को पढ़कर ये तय करना मुश्किल है कि शुभकामना दी जा रही है या फिर तंज कसा जा रहा है. विज्ञापन में कमलनाथ के बारे में कुछ खास बातें बताई गई हैं. मसलन 1993 में कमलनाथ के मुख्यमत्री बनने की चर्चा थी. बताया जाता है कि तब अर्जुन सिंह ने दिग्विजय सिंह का नाम आगे कर दिया. इस तरह कमलनाथ उस वक्त सीएम बनने से चूक गए. अब 25 साल बाद दिग्विजय के समर्थन के बाद उन्हें मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला.


छिंदवाड़ा से कमलनाथ को 1996 में हार का सामना करना पड़ा था. उन्हें सुंदरलाल पटवा ने चुनाव मैदान में पटखनी दी थी. आपातकाल के बाद जनता पार्टी की सरकार के दौरान संजय गांधी को एक मामले में कोर्ट ने तिहाड़ जेल भेजा. तब इंदिरा संजय की सुरक्षा को लेकर चिंतित थीं. कहा जाता है कि तब कमलनाथ जानबूझकर एक जज से लड़ पड़े और जज ने उन्हें सात दिन के लिए तिहाड़ भेज दिया. वहां वे संजय गांधी के साथ ही रहे.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के नाम रवीश कुमार का पत्र

3a8is8e8


विज्ञापन पर बवाल मचने के बाद कांग्रेस नेताओं के पास सफाई देने के लिए भी शब्द नहीं है. बीजेपी को कांग्रेस से मज़े लेने का मौका मिल गया है. वैसे कांग्रेस के कद्दावर नेता कांतिलाल भूरिया ने कहा ये भारतीय जनता पार्टी की साज़िश है. पैसा देकर वो ही छपवाते हैं. वहीं मध्यप्रदेश कांग्रेस सचिव चंद्रप्रभाष शेखर ने कहा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से कोई अधिकृत विज्ञापन हमलोगों ने नहीं दिया है. हम पता लगाएंगे कि वो विज्ञापन कैसे औऱ कहां छप गया. 

टिप्पणियां

कमलनाथ आज नहीं जाएंगे इंदौर, रामजन्मभूमि फैसले के बाद कानून व्यवस्था को देखते रद्द हुआ दौरा

वहीं बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा राज्य कांग्रेस अपने ही नेता और मुख्यमंत्री के बारे में इतना विवादास्पद और अपमानजनक बातें लिखकर शुभकामनाएं देती हैं. शर्म आनी चाहिये. कमलनाथ के जन्मदिन के अवसर पर जिस तरह की राजनीति उन्होंने अपने ही नेता के साथ की है शर्म आनी चाहिये. इसमें किसी सीबीआई जांच की ज़रूरत नहीं. विज्ञापन किसने दिया पांच मिनट में पता चल जाएगा.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement