छत्तीसगढ़ : सीएम भूपेश बघेल के करीबियों पर इनकम टैक्स के छापे, मामला केंद्र बनाम राज्य बना

इनकम टैक्स विभाग की टीम ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की उप सचिव सौम्या चौरसिया के बंगले पर छापा मारा

छत्तीसगढ़ : सीएम भूपेश बघेल के करीबियों पर इनकम टैक्स के छापे, मामला केंद्र बनाम राज्य बना

खास बातें

  • जगदलपुर में भी दो कारोबारियों के ठिकानों पर छापे मारे गए
  • बीजेपी का आरोप इनकम टैक्स के छापे रोकने की कोशिश हो रही
  • बघेल ने राज्यपाल को ज्ञापन दिया, हस्तक्षेप करने की मांग
भोपाल:

छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की उप सचिव सौम्या चौरसिया सहित उनके करीबी सहयोगियों पर इनकम टैक्स विभाग की छापेमारी से मामला राज्य बनाम केंद्र बनता जा रहा है. इनकम टैक्स विभाग की टीम ने शुक्रवार को दोपहर में सौम्या चौरसिया के बंगले पर छापा मारा. टीम में आधा दर्जन अधिकारी और सीआरपीएफ जवान शामिल हैं. जगदलपुर में भी दो कारोबारियों के ठिकानों पर छापे मारे गए हैं.
    
छापे के बाद छत्तीसगढ़ पुलिस ने उन 19 कारों को जब्त कर लिया जिसे छापेमारी के लिए कथित तौर पर आयकर अधिकारियों ने किराये पर लिया था. पुलिस का कहना है कि 1 मार्च को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के रायपुर दौरे के मद्देनज़र वो वाहनों की जांच कर रहे थे, सारी गाड़ियां नो-पार्किंग ज़ोन में खड़ी थीं इसलिए उन्होंने मोटर वाहन अधिनियम के अनुसार जुर्माना वसूल किया और वाहनों को छोड़ दिया.
     
वहीं बीजेपी नेताओं ने विधानसभा में इस मुद्दे को उठाया, और आरोप लगाया कि पुलिस इनकम टैक्स के छापे को रोकने की कोशिश कर रही थी.

गुरुवार को इनकम टैक्स विभाग ने कथित रूप से राज्य के वाणिज्य और उद्योग विभाग में संयुक्त सचिव एके टुटेजा, सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी और पूर्व मुख्य सचिव विवेक ढांड, रायपुर के मेयर एजाज ढेबर, शराब कारोबारी पप्पू भाटिया, पूर्व विधायक गुरुचरण शरण होरा की संपत्तियों पर छापा मारा. आईएएस अधिकारी अनिल टुटेजा भूपेश बघेल सरकार के करीबी हैं और उनकी शिकायत पर ही कांग्रेस सरकार ने नागरिक अपूर्ति निगम घोटाले की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया था, जिसे आमतौर पर नान घोटाले के रूप में जाना जाता है. पूर्व मुख्य सचिव विवेक ढांड को भी भूपेश बघेल सरकार का करीबी माना जाता है.

इस छापेमारी के लिए दिल्ली से 300 से अधिक अधिकारियों की एक टीम जुटी थी. मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ सर्किल के अधिकारियों को कार्रवाई से दूर रखा गया था. गौर करने वाली बात है कि राज्य सरकार की आर्थिक अपराध शाखा ने पूर्व प्रमुख सचिव अमन सिंह जो पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के करीबी सहयोगी हैं उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जिसके ठीक एक दिन बाद इनकम टैक्स ने भूपेश बघेल के करीबियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की.

khe7gddo

        

छापों के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्यपाल से मुलाकात की और ट्वीट कर आरोप लगाया कि दो दिनों से कथित आयकर छापे के नाम पर छत्तीसगढ़ में दहशत का माहौल है. केंद्र की भाजपा सरकार छत्तीसगढ़ की सरकार को अस्थिर करने का षडयंत्र कर रही है. लगातार हार की ऐसी हताशा? ये है असली बदलापुर.

8j044ka
उन्होंने राज्यपाल को ज्ञापन देकर संरक्षण देने और हस्तक्षेप करने की मांग की है.
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com