NDTV Khabar

MP में ‘मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना’ की शुरुआत, चढ़ते-उतरते भावों से किसानों को मिलेगी सुरक्षा

मंडी में भावों के उतार-चढ़ाव से किसानों को सुरक्षा प्रदान करने के लिये मध्य प्रदेश सरकार ने 2017 के लिए चालू खरीफ के मौसम में प्रायोगिक आधार पर ‘‘मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना’’ शुरू की है.

48 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
MP में ‘मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना’ की शुरुआत, चढ़ते-उतरते भावों से किसानों को मिलेगी सुरक्षा

प्रतीकात्मक इमेज

खास बातें

  1. MP में ‘मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना’ शुरुआत
  2. मंडी में चढ़ते-उतरते भावों से किसानों की सुरक्षा के लिए योजना की शुरुआत
  3. इस योजना के तहत अब तक 19,07,862 किसानों ने पंजीयन कराया है
भोपाल: मंडी में भावों के उतार-चढ़ाव से किसानों को सुरक्षा प्रदान करने के लिये मध्य प्रदेश सरकार ने 2017 के लिए चालू खरीफ के मौसम में प्रायोगिक आधार पर ‘‘मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना’’ शुरू की है. इस योजना के तहत किसान को मंडी में उपज का दाम कम मिलने पर न्यूनतम समर्थन मूल्य या औसत आदर्श दर से अंतर की राशि का सरकार सीधे किसान के खाते में भुगतान करेगी. राज्य कृषि विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. राजेश राजौरा ने यहां संवाददाताओं को बताया, ‘‘इस योजना के तहत दलहन एवं तिलहन फसलों के क्षेत्र विस्तार की दृष्टि से खरीफ-2017 में प्रायोगिक आधार पर सोयाबीन, मूंगफली, तिल, रामतिल, मक्का, मूंग, उड़द और तुअर को शामिल किया गया है.’’

यह भी पढ़ें: राजस्थान में किसानों को उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप लोन देगा भूमि विकास बैंक

उन्होंने बताया कि इस योजना में 15 अक्टूबर तक की नियत अवधि में कुल 19,07,862 किसानों ने पंजीयन कराये हैं. क्षेत्रफल के हिसाब से सोयाबीन में 22.75 लाख हेक्टेयर, मूंगफली में 0.22 लाख हेक्टेयर, तिल में 0.43 लाख हेक्टेयर, रामतिल में 0.04 लाख हेक्टेयर, मक्का में 3.87 लाख हेक्टेयर, मूंग में 0.02 लाख हेक्टेयर उड़द में 9.91 लाख हेक्टेयर तथा तुअर में 1.11 लाख हेक्टेयर रकबे की फसलों का पंजीयन कराया गया है

यह भी पढ़ें:  कीटनाशकों की वजह से 20 किसानों की मौत के मामले में जिला कृषि विकास अधिकारी निलंबित

उन्होंने बताया कि देश के किसी राज्य में पहली दफा लागू की जा रही इस तरह की योजना में प्रदेश के कुल किसानों के लगभग 40% किसानों ने पंजीयन कराया है. राजौरा ने बताया कि योजना के तहत किसी जिंस की औसत आदर्श विक्रय दर प्रदेश और अन्य दो प्रदशों में विक्रय अवधि के बाद विक्रय दरों का औसत निकाल कर निर्धारित की जायेगी. यदि किसान द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य से नियत आदर्श विक्रय दर के बीच की किसी दर पर विक्रय किया जाता है तो न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा किसान के द्वारा विक्रय की दर के अंतर की राशि का भुगतान किसान के खाते में किया जायेगा.

VIDEO: कीटनाशक की वजह से 20 किसानों की मौत के मामले में अधिकारी पर गिरी गाज
यदि किसान की विक्रय दर आदर्श विक्रय दर से कम रही तो न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा औसत आदर्श विक्रय दर के अंतर की राशि का भुगतान किसान के खाते में किया जायेगा. उन्होंने कहा कि भावांतर भुगतान योजना पूरे देश में सबसे पहले मध्यप्रदेश में लागू की जा रही है तथा योजना के क्रियान्वयन में सभी स्तर पर निगरानी रखी जा रही है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement