परिवार के साथ मारपीट पर ITBP जवान ने दी थी 'पान सिंह तोमर' बनने की धमकी, CM कमलनाथ बोले...

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ITBP के जवान अमित सिंह के परिवार के साथ धक्कामुक्की व मारपीट की घटना की निष्पक्ष जांच के आदेश दिये है.

परिवार के साथ मारपीट पर ITBP जवान ने दी थी 'पान सिंह तोमर' बनने की धमकी, CM कमलनाथ बोले...

ITBP जवान अमित सिंह (फाइल फोटो)

खास बातें

  • ITBP जवान के परिवार के साथ हुई थी मारपीट
  • जवान ने फेसबुक पोस्ट के जरिये दी थी धमकी
  • सीएम ने मामले में दिये जांच के आदेश
भोपाल:

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने खंडवा जिले के मूंदी गांव निवासी जम्मू कश्मीर में पोस्टेड ITBP के जवान अमित सिंह के परिवार के 16 अगस्त को खंडवा के हनुमंतिया डेम पर घूमने के दौरान मौजूद स्टाफ़ व सुरक्षाकर्मियों के साथ धक्कामुक्की व मारपीट की घटना की निष्पक्ष जांच के आदेश दिये है. जवान अमित सिंह द्वारा फ़ेसबुक पर लिखी पोस्ट द्वारा एमपी सरकार से न्याय मांगने पर मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए यह क़दम उठाया है. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि प्रदेश के हर नागरिक को सुरक्षा देना सरकार का प्रथम कर्तव्य है.  

'कहीं पान सिंह तोमर की तरह बंदूक उठाने...' ITBP जवान ने मध्य प्रदेश पुलिस को दी धमकी

जवान अमित सिंह से भी उन्होंने कहा कि वे चिंता ना करें. आपके परिवार को भी पूरी सुरक्षा देना सरकार का कर्तव्य है. किसी के साथ भी मेरी सरकार में अन्याय नही होगा और ना अन्याय को किसी भी प्रकार का संरक्षण मिलेगा. मुख्यमंत्री ने खंडवा ज़िला प्रशासन को निर्देश देते हुए कहा कि जवान अमित सिंह के परिवार के साथ हुई घटना की निष्पक्ष जांच हो. किसी के साथ भी अन्याय ना हो. किसी निर्दोष पर कोई ग़लत कार्रवाई ना हो. इस बात का विशेष ध्यान रखा जावे. जो भी कार्रवाई हो, निष्पक्ष जांच के उपरांत ही हो.  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

टेरर फंडिंग से जुड़े पूरे रैकेट का पर्दाफाश हो, दोषी बख्शे नहीं जाएंगे : कमलनाथ

आपको बता दें कि एक दिन पहले ही आईटीबीपी जवान अमित सिंह ने फेसबुक पोस्ट के जरिये राज्य की पुलिस को धमकी दी थी और न्याय की गुहार लगाई थी. उन्होंने लिखा था, 'मेरे साथ और मेरे भाई के साथ न्याय करेें. नया पान सिंह तोमर बनने के लिये मुझे बंदूक चलाने की ट्रेनिंग लेने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी.' इसके बाद सरकार हरकत में आई मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूरी घटना की जांच के आदेश दिये.