NDTV Khabar

मध्य प्रदेश: 500 बच्चे इलाज के लिए आए थे अस्पताल, सभी को नहीं मिला बेड तो कलेक्टर ने 100 बच्चों को अपने बंगले में रखा

मध्यप्रदेश में सीधी जिले के कलेक्टर अभिषेक सिंह ने बुधवार को जिला अस्पताल में ब्लड ट्रांसफ्यूजन के लिए जिले के करीब 500 एनीमिक बच्चों को लेकर उनके परिजन पहुंचे थे. इनमें से करीब 400 बच्चों को जिला अस्पताल और नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्य प्रदेश: 500 बच्चे इलाज के लिए आए थे अस्पताल, सभी को नहीं मिला बेड तो कलेक्टर ने 100 बच्चों को अपने बंगले में रखा

खास बातें

  1. 500 बच्चे इलाज के लिए आए थे अस्पताल
  2. सभी को नहीं मिला बेड तो कलेक्टर ने 100 बच्चों को अपने बंगले में रखा
  3. मध्यप्रदेश के सीधी जिला अस्पताल का मामला
भोपाल:

मध्यप्रदेश में सीधी जिले के कलेक्टर अभिषेक सिंह ने बुधवार को जिला अस्पताल में ब्लड ट्रांसफ्यूजन के लिए जिले के करीब 500 एनीमिक बच्चों को लेकर उनके परिजन पहुंचे थे. इनमें से करीब 400 बच्चों को जिला अस्पताल और नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया. वहीं, 100 बच्चों को इलाज के लिए बेड नहीं मिल पाया. कई बच्चों की हालत बिगड़ने लगी जिसका जानकारी कलेक्टर अभिषेक सिंह को दी गई. मौके पर पहुंचे कलेक्टर ने सभी बच्चों को अपने बंगले में भेज दिया और उनके परिजनों के रहने और खाने पीने की व्यवस्था की. अस्पताल प्रबंधन के द्वारा कलेक्टर को बताया गया कि अस्पताल में विशेषक डॉक्टरों की कमी है जिसके बाद कलेक्टर ने संभागायुक्त से चर्चा करके रीवा से करीब 6 टेक्नीशियन को बुलाया.

दमोह : सरकारी अस्पताल में सर्पदंश की मरीज का झाड़-फूंक से किया गया 'इलाज', देखें - VIDEO


बीते दिनों मध्य प्रदेश के दमोह में जिला अस्पताल से भी हैरान करने वाली खबर आई थी. यहां जिला अस्पताल में एक 8 साल के बच्चे की बल्ड नहीं मिलने के कारण मौत हो गई थी. बच्चे के परिजनों ने इस संबंध में गुस्ता जाहिर करते हुए कहा था कि हमने ब्लड के लिए ब्लड बैंक में 1200 रुपये जमा किए थे, लेकिन उन्होंने हमे ब्लड नहीं दिया. बच्चे की मां ने लोगों से भी ब्लड देने की अपील की थी, लेकिन बात नहीं बन पाई और उसकी मौत हो गई.

बच्चे के शव को ले जाने के लिए नहीं मिली एम्बुलेंस, मोटरसाइकिल पर ले गया मजबूर पिता


इस अस्पताल की सर्जन डॉ. ममता तिमोरी ने इस संबंध में कहा था कि शुरू से ही उसकी हालत गंभीर थी. डॉक्टरों ने उसे दूसरे अस्पताल में रेफर करने के लिए कहा था. लेकिन बच्चे के परिजन वहां से नहीं गए. हम ब्लड बैंक के स्टाफ से पूछताछ कर रहे हैं.

टिप्पणियां

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम: इमरजेंसी वार्ड में पत्रकारों को किया गया बंद



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement