दुलर्भ प्रजाति का विदेशी प्रवासी पक्षी पहुंचा पेंच टाइगर रिजर्व, देखने के लिए उमड़ी भीड़

पेंच टाइगर रिजर्व पार्क में इन दिनों विदेशी प्रवासी पक्षी सबको आकर्षित कर रहा है, ये सफेद खूबसूरत पक्षी अपनी पंखों की वजह से खास पहचान रखता है, जिसे 1953 में संरक्षण के दायरे में रखा गया था.

दुलर्भ प्रजाति का विदेशी प्रवासी पक्षी पहुंचा पेंच टाइगर रिजर्व, देखने के लिए उमड़ी भीड़

दुर्लभ प्रजाति का विदेशी पक्षी है जो पेंच टाइगर रिजर्व में पिछले 4 से 5 दिनों में नजर आ रहा है

सिवनी:

पेंच टाइगर रिजर्व पार्क में इन दिनों विदेशी प्रवासी पक्षी सबको आकर्षित कर रहा है, ये सफेद खूबसूरत पक्षी अपनी पंखों की वजह से खास पहचान रखता है, जिसे 1953 में संरक्षण के दायरे में रखा गया था. पेंच टाइगर रिजर्व के प्रबंधन ने बताया कि यह दुर्लभ प्रजाति का विदेशी पक्षी है जो पेंच टाइगर रिजर्व में पिछले 4 से 5 दिनों में नजर आ रहा है इन पक्षियों का एक छोटा सा समूह पेंच टाइगर रिजर्व की शोभा बढ़ा रहा है इन पक्षियों को देखने के लिए आसपास के लोगों की भी उमड़ रही है. 

सन 1953 में अमेरिका में ग्रेट इग्रेट को नेशनल ऑडुबोन सोसाइटी के प्रतीक के रूप में चुना गया था, जिसका गठन उनके पंखों के लिए पक्षियों की हत्या को रोकने के लिए किया गया था. पेंच टाइगर रिजर्व का बफर खवासा एक ऐसा गांव है, जहां कई सालों से माइग्रेट करके आये ये पक्षी यहां प्रजनन करते हैं.

इन खूबसूरत पक्षियों ने यहां के वातावरण और प्रकृति की अनुकूलता के चलते इसे प्रजनन के लिए चुना है और प्रकृति के सुंदर नजारे के बीच Great Egret पक्षियों के प्रजनन के बाद खूबसूरत नजारे को देखने हर साल वन्यजीव प्रेमी और सैलानी यहां आते हैं.  

Video: सांभर झील क्षेत्र में सैकड़ों प्रवासी पक्षी मृत पाए गए

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com