ज्योतिरादित्य सिंधिया के फैंस ने सीने पर गुदवाई उनकी तस्वीर, पांच साल तक नहीं पहनेगा चप्पल और शर्ट

ज्योतिरादित्य सिंधिया को लोकसभा चुनाव में मिली हार से उनके प्रशंसक दुखी हैं.

ज्योतिरादित्य सिंधिया के फैंस ने सीने पर गुदवाई उनकी तस्वीर, पांच साल तक नहीं पहनेगा चप्पल और शर्ट

ज्योतिरादित्य सिंधिया इस लोकसभा चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी कृष्ण पाल यादव से हार गए हैं.

खास बातें

  • गुना सीट से इस बार लोकसभा चुनाव हारे हैं ज्योतिरादित्य
  • गुना सीट मानी जाती थी सिंधिया परिवार का गढ़
  • कार्यकर्ताओं की बैठक में पहुंचा था प्रशंसक
भोपाल:

मध्य प्रदेश के गुना संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) चुनाव भले ही हार गए हों, लेकिन उनके चाहनेवालों की दीवानगी में जरा भी कमी नहीं आई है. गुना में एक प्रशंसक ने अपने सीने पर सिंधिया की न केवल तस्वीर गुदवाई है, बल्कि उनकी हार से दुखी होकर शर्ट और चप्पल पहनना भी छोड़ दिया है. गुना संसदीय क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ता रुपेश शर्मा, सिंधिया के प्रशंसक हैं. रविवार को सिंधिया जब अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे पर पहुंचे और कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई तो उसमें रुपेश शर्मा भी शामिल हुए. उन्होंने शर्ट और चप्पल नहीं पहनी थी. 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शेयर की बेटे के साथ फोटो, तो बॉलीवुड एक्टर बोले- इसे हीरो बना दो

जब संवाददाताओं ने उनसे सीने पर सिंधिया की तस्वीर गुदवाने व शर्ट और चप्पल त्यागने की वजह पूछी, तो उन्होंने कहा कि सिंधिया उनके चहेते नेता हैं, इसलिए तस्वीर गुदवाई है. वहीं, उनको लोकसभा चुनाव में मिली हार से वे दुखी हैं, इसके चलते वह शर्ट और चप्पल नहीं पहनते हैं. वे पांच साल तक इसी तरह रहेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ज्योतिरादित्य सिंधिया के सबसे खास शख्स ने ही छुड़ाए पसीने, कभी सेल्फी के लिए खड़ा होता था कार के सामने

ज्ञात हो कि, बीते महीने हुए लोकसभा चुनाव में सिंधिया को हार मिली थी. वे बीजेपी के अपने प्रतिद्वंदी कृष्ण पाल यादव से हार गए थे. जबकि गुना संसदीय क्षेत्र को सिंधिया राजघराने का गढ़ माना जाता है. वह यहां से चार बार सांसद रह चुके हैं. इससे पहले उनके पिता माधवराव सिंधिया, दादी विजयाराजे सिंधिया ने भी इस संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था. यहां से पहली बार किसी सिंधिया राजघराने के सदस्य को हार मिली है. (इनपुट-आइएएनएस)