मध्यप्रदेश की यूनिवर्सिटीज में 29 जून से शुरू होंगे फाइनल इयर के एग्जाम : राज्य सरकार

मध्यप्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में स्नातक, स्नातकोत्तर और अन्य पाठ्यक्रमों के लिए अंतिम वर्ष/ सेमेस्टर की परीक्षाएं 29 जून से 31 जुलाई के बीच होंगी.

मध्यप्रदेश की यूनिवर्सिटीज में 29 जून से शुरू होंगे फाइनल इयर के एग्जाम : राज्य सरकार

परीक्षाएं 29 जून से 31 जुलाई, 2020 के मध्य आयोजित की जाएंगी

भोपाल:

मध्यप्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में स्नातक, स्नातकोत्तर और अन्य पाठ्यक्रमों के लिए अंतिम वर्ष/ सेमेस्टर की परीक्षाएं 29 जून से 31 जुलाई के बीच होंगी. राज्यपाल लालजी टंडन की अध्यक्षता में राजभवन में सोमवार को आयोजित बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी मौजूद थे.  प्रदेश सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि निर्णय किया गया कि उच्च शिक्षा की स्नातक और स्नातकोत्तर कक्षाओं और पाठ्यक्रमों के अंतिम वर्ष/सेमेस्टर की परीक्षाएं 29 जून से 31 जुलाई, 2020 के मध्य आयोजित की जाएंगी. यह व्यवस्था सभी निजी विश्वविद्यालयों/ महाविद्यालयों पर भी लागू होगी. 

Newsbeep

मुख्यमंत्री की राज्यपाल से आज हुई मुलाकात ने प्रदेश मंत्रिमंडल के दूसरे विस्तार की अटकलों को हवा दे दी है। गौरतलब है कि मंत्रिमंडल का विस्तार कोविड-19 संकट के चलते लंबित है. सूत्रों के अनुसार भाजपा के वरिष्ठ विधायकों के साथ ही पूर्व मंत्री भी मंत्रिमंडल में स्थान पाने की उम्मीद लगाए बैठे हैं. चौहान के करीबी सूत्रों ने कहा कि इस माह के अंत तक मंत्रिपरिषद का एक और विस्तार होने की उम्मीद है. कांग्रेस सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के पद छोड़ने के बाद शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च की रात मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. चौहान एक माह तक अकेले ही सरकार चलाते रहे. इसके बाद पिछले माह उन्होंने अपने मंत्रिमंडल में पांच लोगों को जगह दी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सूत्रों ने बताया कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस छोड़ने के वाले उनके समर्थकों प्रभुराम चौधरी, इमरती देवी, महेन्द्र सिंह सिसोदिया और प्रद्युम्न सिंह तोमर को मुख्यमंत्री चौहान द्वारा मंत्रिमंडल में शामिल करने की उम्मीद है. सिंधिया के साथ उनके 22 कांग्रेस विधायकों द्वारा कांग्रेस से बागी हो त्यागपत्र देकर भाजपा में शामिल होने से मध्यप्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार गिर गयी थी.