NDTV Khabar

देश में खुला पहला गौ-अभयारण्य, सउदी अरब से आई अवधारणा

मध्य प्रदेश गौ-संवर्धन बोर्ड ने उम्मीद जताई कि गौ-पालन से देश की अर्थव्यवस्था बदलेगी और अमेरिकी डॉलर, सउदी अरब का दीनार पीछे छूट जाएगा.

660 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश में खुला पहला गौ-अभयारण्य, सउदी अरब से आई अवधारणा

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

भोपाल: मध्य प्रदेश के आगर मालवा में देश का पहला गौ अभयारण्य खुल गया. अकेले आगर मालवा में लगभग डेढ़ लाख गायें हैं, पूरे प्रदेश में गौवंश की तादाद 2 करोड़ के आसपास है. ऐसे में ये नाकाफी तो है, लेकिन शुरुआत अच्छी है. अभयारण्य में पहले ग्यारह गायों की पूजा हुई उसके बाद महीनों तक उद्घाटन की बाट जोह रहे देश के पहले कामधेनु गौ-अभयारण्य में गायों की एंट्री हुई. मध्य प्रदेश गौ-संवर्धन बोर्ड ने उम्मीद जताई कि गौ-पालन से देश की अर्थव्यवस्था बदलेगी और अमेरिकी डॉलर, सउदी अरब का दीनार पीछे छूट जाएगा. साथ ही ये भी जोड़ा कि अभयारण्य का आदर्श रियाद के पास की गौशाला बना. गौ संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष स्वामी अखिलेश्वरानंद ने कहा, 'रियाद से 100 किलोमीटर दूर अल-खिराज में एक बहुत बड़ी गौशाला बनाई गई है. 36,000 गायें वहां रहती हैं, बड़े व्यवस्थित ढंग से रहती हैं. वहां जो गौपालक हैं उनका विदेश में प्रशिक्षण होता है. वहां गोबर, गोमूत्र प्रबंधन गायों के पानी का इंतज़ाम करना. वहां की कुछ पद्धति बहुत अच्छी है. गाय दूध ना दे तो उसे कत्लखाने में नहीं भेजते, अलग जगह रखते हैं और उसकी सेवा करते हैं.'

सालारिया गांव में 472 हेक्टेयर जमीन पर बने इस अभ्यारण्य में 6000 गायें रखी जा सकती हैं, 32 करोड़ रुपयों की इस योजना में 24 शेड के अलावा कृषक प्रशिक्षण केंद्र, गौ अनुसंधान केंद्र, गोबर गैस प्लांट और सोलर प्लांट लगाए हैं.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने माना, गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का कोई प्रस्ताव नहीं मिला

2015 में अभ्याराण्य तैयार था, हर महीने लगभग 5 लाख रुपये से कर्मचारियों को तनख्वाह दी गई, गायें आईं 2017 में. उम्मीद है गौवसंवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष के बयान के बाद देश भर में कथित गौरक्षा के नाम पर हो रही गुंडागर्दी की तस्वीरों में शामिल लोग थोड़ा बहुत सोचेंगे.

VIDEO: 'बंद करो ये हिंसा'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement