NDTV Khabar

शिवराज के बेटे के सामने सिंधिया को धमकी, 'सीएम पर उंगली उठाई तो हाथ तोड़ देंगे और जुबान चलाई तो...'

मध्य प्रदेश में किरार सेवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष राधेश्याम धाकड़ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय चौहान की सभा में ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर कहा कि शिवराज सिंह पर एक उंगली उठाई तो हाथ तोड़ देंगे और जुबान चलाई तो जुबान काट देंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिवराज के बेटे के सामने सिंधिया को धमकी, 'सीएम पर उंगली उठाई तो हाथ तोड़ देंगे और जुबान चलाई तो...'

ज्योतिरादित्य सिंधिया (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. किरार सेवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने शिवराज के बेटे के सामने दी धमकी.
  2. जिस मंच से धमकी दी गई, उस मंच पर बीजेपी के कई नेता मौजूद थे.
  3. बीजेपी ने इस बयान को क्रिया की प्रतिक्रिया करार दिया है.
भोपाल: मध्य प्रदेश में किरार सेवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष राधेश्याम धाकड़ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय चौहान की सभा में ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर कहा कि शिवराज सिंह पर एक उंगली उठाई तो हाथ तोड़ देंगे और जुबान चलाई तो जुबान काट देंगे. उन्होंने कहा 'हम धाकड़ हैं, धाकड़ ही रहेंगे और ठिकाने लगा देंगे.' इस मामले पर बीजेपी ने सिर्फ इतना कहा कि नेताओं को भाषा की मर्यादा का पालन करना चाहिये.

यह भी पढ़ें - जब तक शिव 'राज' उखाड़ नहीं फेंकूंगा, तब तक फूलों की माला नहीं पहनूंगा : ज्योतिरादित्य सिंधिया

शिवपुरी जिले की कोलारस विधानसभा में आयोजित किरार धाकड़ सम्मेलन में किरार सेवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष राधेश्याम धाकड़ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पर हमलावर थे. उस मंच पर जहां प्रदेश बीजेपी उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा, मुख्यमंत्री के बेटे कार्तिकेय चौहान, विधायक प्रहलाद भारती और सांसद रोडमल नागर भी थे. अब पार्टी कह रही है कि ये शायद क्रिया की प्रतिक्रिया थी. 

जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि 'इससे पहले कांग्रेस नेता ने कहा था खून की नदी बहा देंगे, शायद उससे आक्रोशित होकर ये बात कही गई होगी, फिर भी मैं हमेशा कहता हूं वाणी पर संयम आवश्यक है. हमारे कार्यकर्ता ने कहा उनसे बातचीत की जाएगी.'

यह भी पढ़ें - भाजपा का पलटवार, कहा- सिंधिया ने गोडसे के मंदिर का निर्माण क्यों नहीं रुकवाया?

टिप्पणियां
इसी मंच से शिवराज के बेटे कार्तिकेय के भाषण को भी उनकी सियासी पारी की शुरुआत के तौर पर देखा जा रहा है. बीजेपी को लगता है इसमें कुछ गलत नहीं है. पार्टी के वरिष्ठ नेता और वित्त मंत्री जयंत मलैया ने कार्तिकेय का बचाव करते हुए कहा कि हर आदमी स्वतंत्र है. मुख्यमंत्री के बेटे हैं, काबिल हैं, जरूर आएंगे वो अपनी काबिलियत पर आ रहे हैं.
      
कांग्रेस बीजेपी के नेताओं के बयान पर कार्रवाई की मांग के साथ कार्तिकेय की पारी को वंशवाद के तौर पर देख रही है. कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता के के मिश्रा ने कहा अगर ये सामाजिक कार्यक्रम था तो मुख्यमंत्री के बेटे वहां क्या कर रहे थे? ये बीजेपी का दोहरा मानदंड है. गुजरात चुनावों के वक्त हमारे वरिष्ठ नेता ने एक बयान दिया था जिसकी वजह से उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया, लेकिन बीजेपी ऐसे लोगों को प्रश्रय देती है.

VIDEO :दिल्ली सचिवालय पर छापा : सिंधिया ने कहा- यह राजनीतिक बदला 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement