मध्यप्रदेश : जज को बांधकर 500 रुपये लूटने वाले पांच नशेड़ी गिरफ्तार, तीन एमबीए डिग्री धारी

मध्यप्रदेश के उमरिया जिले के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार शर्मा के घर में युवकों ने लूट की वारदात की थी

मध्यप्रदेश : जज को बांधकर 500 रुपये लूटने वाले पांच नशेड़ी गिरफ्तार, तीन एमबीए डिग्री धारी

उमरिया में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश का निवास जिसमें लूट की वारदात हुई थी.

खास बातें

  • आरोपी पांचों युवक नशे के आदी
  • पैसे खत्म होने पर लूट की वारदात की
  • जज को बिस्तर से बांधकर घर की तलाशी ली थी
भोपाल:

मध्यप्रदेश के उमरिया में जज सुरेन्द्र शर्मा के घर में हुई लूट के मामले में उमरिया पुलिस ने 24 घंटे के अंदर आरोपियों को धरदबोचा. पता लगा कि आरोपी युवक नशे के आदि थे, पैसे खत्म होने की वजह से उन्होंने लूट की वारदात को अंजाम दिया. पुलिस ने मामले में पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. आरोपियों में तीन एमबीए पास हैं.

उमरिया पुलिस ने जिले की नाके बंदी कर पांचों आरोपियों को गिरफ्तार किया जिसमें से दो तो आदतन अपराधी हैं, लेकिन तीन एमबीए पास हैं. दो आरोपी युवक शहडोल के हैं, जिनसे महज़ 520 रुपये मिले. आरोपियों से एक स्कॉर्पियो भी जब्त की गई.

आरोपी शहडोल से मैहर गए थे, नशे के आदी सारे आरोपियों ने पैसे खत्म हो जाने पर जज के घर घुसकर लूट की घटना को अंजाम दिया.  मैहर जाने के लिए युवकों ने घर से भी काफी रुपये चुराए थे और रास्ते मे कुंडम के पास स्मैक खरीदी. खाने-पीने में सारे पैसे खर्च होने पर उन्होंने उमरिया में लूट की वारदात को अंजाम दिया.

लुटेरों ने घर में घुसकर जज को पलंग से बांध दिया और 500 रुपये लूट लिए

मंगलवार रात लगभग 1.30 बजे, तलवार और दूसरे तेज धार वाले हथियारों से लैस इन आरोपियों ने खलेसर नाका के पास स्थित कालोनी में किराये के मकान में रह रहे जज के घर में लूट की वारदात को अंजाम दिया. आरोपियों ने उन्हें बिस्तर से बांधने से पहले एक कंबल से ढंक दिया और उसके बाद कीमती सामान और पैसे के लिए सभी कमरों की तलाशी ली. उन्होंने जज से उन्हें पैसे और गहनों के बारे में बताने के लिए कहा, लेकिन जब जज ने उन्हें बताया कि घर के अंदर ज्यादा नकदी या आभूषण नहीं हैं, तो वे लोग लगभग 500 रुपये नकद लेकर घर से चले गए. लुटेरे उनका सेल-फोन और लैपटॉप भी ले गए थे, लेकिन जाने से पहले उन्होंने उसे छोड़ दिया.

जज के बंगले पर तैनात सुरक्षाकर्मी अपने करीबी रिश्तेदार के इलाज के लिए चित्रकूट गए थे.बड़ी मुश्किल के बाद जज ने खुद को आज़ाद किया और फिर अपने नौकर के कमरे में गए, जिसे बाहर से लुटेरों ने बंद कर दिया था. बाद में उन्होंने नौकर के फोन का उपयोग करते हुए अपने कार चालक को बुलाया, जिसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई.

VIDEO : अमेठी में रिटायर कैप्टन की हत्या

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com