NDTV Khabar

चार ऑपरेशन और आठ साल तक पलंग पर रहने के बाद भी नहीं मानी हार, अपनी जिद्द से MPPSC की टॉपर बनीं मिनी अग्रवाल 

ग्वालियर में पली-बढ़ी मिनी दिव्यांग होने की वजह से स्कूल भी बेहद कम ही जा पातीं, फिर भी तमाम मुश्किलों पर काबू पाते हुए मिनी अग्रवाल ने अपनी ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई पूरी करने के बाद से ही एमपीपीएससी की तैयारी में जुट गईं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चार ऑपरेशन और आठ साल तक पलंग पर रहने के बाद भी नहीं मानी हार, अपनी जिद्द से MPPSC की टॉपर बनीं मिनी अग्रवाल 

अपनी मेहनत से मिनी अग्रवाल ने हासिल किया मुकाम

नई दिल्ली:

अगर कुछ कर गुजरने की दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है. इसकी एक मिसाल बनीं हैं एमपीपीएससी की टॉपर मिनी अग्रवाल. मिनी के लिए इस उपलब्धि को हासिल करना कई तरह की चुनौतियों से भरा हुआ था. खासकर तब जब उन्हें चार बड़े ऑपरेशन की वजह से आठ साल तक बिस्तर पर रहना पड़ा. लेकिन इन सब के बावजूद भी मिनी ने हार नहीं मानी और अपने सपने को साकार करने के लिए दिन रात एक कर मेहनत करती रहीं. बता दें कि मिनी अग्रवाल नगर निगम में बतौर असिस्टेंट कमिश्नर कार्यरत हैं.

r151gg6
टिप्पणियां

ग्वालियर में पली-बढ़ी मिनी दिव्यांग होने की वजह से स्कूल भी बेहद कम ही जा पातीं, फिर भी तमाम मुश्किलों पर काबू पाते हुए मिनी अग्रवाल ने अपनी ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई पूरी करने के बाद से ही एमपीपीएससी की तैयारी में जुट गईं. जीतने का जुनून इतना कि तीन बार की नाकामी भी हिला नहीं सकी और आखिरकार 2014 में उन्हें करियर की पहली कामयाबी मिली जब उन्हें लेबर ऑफिसर के पद पर नियुक्त किया गया.


लेकिन मिनी ने जिंदगी में बेहतर करने की जंग जारी रखी और अब 2018 की परीक्षा में वे नगर निगम के असिस्टेंट कमिश्नर के लिए चुनी गई हैं. मिनी की इस कामयाबी पर ना सिर्फ घर वालों को नाज है बल्कि वो एक मिसाल बन चुकी हैं संघर्ष की, चुनौतियों से लोहा लेकर जीत हासिल करने की.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement