NDTV Khabar

मंदसौर गोलीकांड की बरसी: राहुल की रैली का डर? 1200 लोगों को दिया गया नोटिस

6 जून किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में हिंसा हुई. पुलिस ने गोलियां चलाईं, जिसमें 5 किसानों की मौत हुई, एक ने अस्पताल में दम तोड़ा. इन 6 किसानों को मंदसौर में शहीद का दर्जा मिला.

2K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मंदसौर गोलीकांड की बरसी: राहुल की रैली का डर? 1200 लोगों को दिया गया नोटिस

6 जून 2017 को किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में हिंसा हुई थी

खास बातें

  1. राहुल गांधी की सभा से पहले लगभग 1200 लोगों को नोटिस जारी
  2. 25,000 के बांड भरवाये जा रहे हैं
  3. पिछले साल 6 जून को किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में हिंसा हुई थी
भोपाल:

1 जून को गांव बंद, और 6 तारीख को मध्यप्रदेश के मंदसौर में राहुल गांधी की सभा से पहले मंदसौर में पुलिस प्रशासन ने लगभग 1200 लोगों को नोटिस जारी किया है. इन नोटिसों के जरिये इन्हें तलब कर सवाल पूछे जा रहे हैं. जिन लोगों से प्रशासन को शांति व्यवस्था बिगड़ने की आशंका है उनसे 25,000 के बांड भरवाये जा रहे हैं.

नोटिस मिलने पर दिनेश पाटीदार कहते हैं पूरे मल्हारगढ़ में 700 नोटिस हैं, जिसमें मधुसूदन का नाम भी है, वो दोनों तो भाई थे, दोनों खड़े-खड़े देख रहे थे, अभिषेक को गोली लगी. सबकुछ खत्म हो गया, उसके बाद हम ये समझ रहे थे कि बात को भूल जाएंगे लेकिन पता नहीं फिर क्यों याद दिलवा रहे हैं नोटिस देकर.

दिनेश 11वीं में पढ़ने वाले अभिषेक के पिता हैं. 6 जून को 17 साल के अभिषेक पाटीदार के मौत की पहली बरसी है, उससे पहले गांव बंद को लेकर उसके परिजनों को नोटिस मिला है जिससे जख्म हरे हो गये हैं.

6 जून किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में हिंसा हुई. पुलिस ने गोलियां चलाईं, जिसमें 5 किसानों की मौत हुई, एक ने अस्पताल में दम तोड़ा. इन 6 किसानों को मंदसौर में शहीद का दर्जा मिला. इस आंदोलन की पहली बरसी है, 1 जून से 10 जून तक गांव बंद का आह्ववान भी है. इलाके में हिंसा ना फैले इसलिये कई किसानों को सीआरपीसी की धारा 107 यानी शांति बनाये रखने की जमानत के तौर पर 25,000 के बॉन्‍ड भरवाए जा रहे हैं. ज़िले के कलेक्टर ओम प्रकाश श्रीवास्तव का कहना है '107, 116 के नोटिस शक की बिना पर दिये जाते हैं कि इससे कोई कानून व्यवस्था भंग हो सकती है लेकिन उसे जवाब देने का मौका दिया जाता है, उसका हम परीक्षण करते हैं, नहीं लगेगा तो उसे निरस्त कर देंगे.' वहीं एएसपी सुंदर सिंह कनेश ने कहा, 'पिछले किसान आंदोलन में जिन्होंने सक्रिय रूप से भाग लिया और जिसकी आपराधिक पृष्ठभूमि है, ऐसे लोगों पर दंडात्मक कार्रवाई की गई है, मधुसूदन पर उसी कड़ी में हुआ है अलग से नहीं.'


VIDEO: मध्यप्रदेश में राहुल की रैली से पहले 1200 लोगों को नोटिस

टिप्पणियां

बीजेपी को लगता है ये कानूनी प्रक्रिया है, वहीं कांग्रेस मानती है सरकार राहुल गांधी के आने से डरी हुई है. कांग्रेस प्रवक्ता फिरोज़ सिद्दीकी ने कहा, 'बीजेपी राहुल के दौरे से घबराई हुई है इसलिये 25000 के बॉन्‍ड भरवा रही है, किसानों को गोली मारी है, जनविरोधी नीति है उनकी तो वो दमन करके किसानों को रोकना चाहते हैं, ताकी वो राहुल की रैली में ना जाएं.' वहीं बीजेपी प्रवक्ता राहुल कोठारी ने कहा, 'जब भी कार्यक्रम होगा बॉन्‍ड भरवाना कानूनी प्रक्रिया का हिस्सा है. राहुल गांधी से घबराने की बात नहीं है, उनसे घबराकर तो वहां के नेता इस्तीफा दे रहे हैं. वहां गुटबाजी चरम पर है. बीजेपी सरकार का काम शांति व्यवस्था बनाए रखना है ताकी कांग्रेस जिस तरह से वैमनस्य फैलाने का काम करती है उसमें वो सफल ना हो सकें.'

6 जून का राहुल गांधी की मंदसौर में सभा है, तो 30 जून को किसानों को मनाने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंदसौर पहुंच रहे हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement