इंदौर : टोल बूथ पर नकोबपोशों ने जमकर तोड़फोड़ की, आसपास के किसानों से टैक्स वसूली का विरोध

इंदौर-अहमदाबाद हाईवे पर रात में टोल बूथ पर की गई तोड़फोड़, आसपास के लोगों से टोल वसूली पर पहले कई बार हो चुके हैं विरोध प्रदर्शन

इंदौर : टोल बूथ पर नकोबपोशों ने जमकर तोड़फोड़ की, आसपास के किसानों से टैक्स वसूली का विरोध

इंदौर-अहमदाबाद हाईवे पर टोल बूथ पर नकाबपोशों ने तोड़फोड़ की.

भोपाल:

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) में एक टोल बूथ पर लोगों ने जमकर तोड़फोड़ की. इंदौर-अहमदाबाद नेशनल हाईवे 59 के मेठवाड़ा टोल टैक्स बूथ (Toll tax booth) पर शुक्रवार को रात में करीब 35 नकबपोशों ने जमकर तोड़फोड़ का और उत्पात मचाया. घटना की सूचना टोल बूथ संचालकों ने बेटमा पुलिस थाने को दी. इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची. जैसे पुलिस के सायरन की आवाज सुनाई दी, उपद्रवी वहां से भाग गए. 

इंदौर-अहमदाबाद राजमार्ग पर बेटमा के पास स्थित मेठवाड़ा टोल बूथ पर तोड़फोड़ के मामले आए दिन सामने आते हैं. कुछ दिन पहले ही यहां के कर्मचारियों के कथित दुर्व्यवहार का मामला सामने आया था. आसपास के ग्रामीण टोल वसूली को लेकर नाराज हैं. टोल बूथ और सड़क निर्माण में जिन लोगों की जमीनें ली गई हैं उन किसानों को नौकरी देने की मांग को लेकर करणी सेना ने विरोध प्रदर्शन किया था और प्रशासन को चेताया भी था. करणी सेना के जिला अध्यक्ष ऋषिराज सिंह सिसोदिया ने इस मामले को लेकर तोड़फोड़ की धमकी दी थी. 

हालांकि कल रात में हुई तोड़फोड़ के मामले में करणी सेना का नाम सामने नहीं आया है. पुलिस यह मानकर जांच कर रही है कि आसपास के ग्रामीणों से टोल टैक्स वसूली को लेकर तोड़फोड़ की गई है. पूर्व में भी टोल बूथ के आसपास के गांवों के लोगों ने टैक्स वसूली का विरोध किया था. जब से यह टोल बूथ बना है, तब से ही यह विवादों में रहा है. बताया जाता है कि अन्य टोल नाकों की तुलना में यहां पर लगने वाले टोल की दरें बहुत ज्यादा हैं.

                     
एक बार कांग्रेस के क्षेत्रीय विधायक विशाल पटेल ने करीब 3 घंटे तक टोल बूथ के नजदीक रहने वाले किसानों से जबरिया टोल वसूली को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था. तब टोल प्लाजा प्रबंधन ने ग्रामीणों से टोल वसूली नहीं करने की बात कही थी.

                              

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

शुक्रवार को रात में हुई  तोड़फोड़ को लेकर पुलिस का कहना है कि टोल बूथ के आसपास के गांव वाले जिनकी खेती टोल बूथ के दोनों ओर है उन्हें खेत पर आना-जाना पड़ता है. पुलिस के मुताबिक टोल प्रबंधन ने किसानों को ढाई सौ रुपये का मंथली पास बनाने की बात कही थी. 

स्थानीय किसानों में काफी आक्रोश है. विरोध करने वाले वही किसान हैं जिनकी काफी जमीन नेशनल हाईवे के निर्माण के चलते अधिग्रहीत हो गई है. फिलहाल पुलिस ने प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना शुरू की है.