इंदौर में निगम कर्मियों ने अंडे बेचकर रोजी-रोटी कमाने वाले बच्चे का ठेला पलट दिया

इंदौर के पिपलियहाना चौराहे का एक वीडियो वायरल हो गया, बच्चे ने आरोप लगाया कि कर्मचारी 100 रुपये मांग रहे थे, नहीं देने पर ठेले को पलटा दिया

इंदौर में निगम कर्मियों ने अंडे बेचकर रोजी-रोटी कमाने वाले बच्चे का ठेला पलट दिया

इंदौर में बच्चे का अंडे का ठेला निगम कर्मियों ने उलटा दिया.

भोपाल:

इंदौर में सड़क पर फेरी लगाने वालों की कार्रवाई से न सिर्फ कांग्रेस बल्कि बीजेपी के नेताओं ने भी नाराज़गी जताई है. गुरुवार को इंदौर के पिपलियहाना चौराहे का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें नगर निगम कर्मचारियों ने अंडे का ठेला लगाकर रोजी-रोटी कमाने वाले बच्चे का कथित तौर पर ठेला पलट दिया, सारे अंडे तोड़ दिए.
      
वायरल वीडियो में बच्चे ने आरोप लगाए हैं. उसने बताया कि वह सुबह से ठेला लगाए हुए था. निगम की टीम गाड़ी लेकर आई ओर कहा कि यहां से ठेला हटा लें, नहीं तो जब्त कर लेंगे. वे 100 रुपये मांग रहे थे, नहीं देने पर ठेले को पलटा दिया. इससे उसके सारे अंडे फूट गए. धंधा नहीं हो रहा है, ऊपर से इतना नुकसान कर दिया.
      
इंदौर राज्य में कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित जिला है, पिछले 24 घंटों में शहर में 118 नए मामले आए. शहर में अब तक कुल 6457 संक्रमित मरीज़ हैं. इंदौर शहर में व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के लिए " लेफ्ट-राइट" व्यवस्था शुरू की गई है. इसके तहत सड़क के दाईं ओर की दुकानों को एक दिन में खोलने की अनुमति दी जाएगी,और उसके बाद दूसरे दिन बांई ओर की दुकानें खुलेंगी. 

यह भी पढ़ें : इंदौर : पीएचडी डिग्रीधारी महिला सब्जी विक्रेता ने निगम अधिकारियों को धाराप्रवाह अंग्रेजी में लताड़ा, देखें VIDEO         


लेकिन बीजेपी के वरिष्ठ नेता भंवर सिंह शेखावत जैसे भाजपा नेताओं ने खुले तौर पर कहा था कि दुकानें खोलने के लिए लेफ्ट-राइट सिस्टम को तुरंत रद्द कर दिया जाना चाहिए. कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने भी कहा है कि प्रशासन को स्ट्रीट वेंडरों को परेशान करना बंद करना चाहिए अगर ऐसा नहीं किया गया तो वे उनके समर्थन में सड़कों पर उतरने को मजबूर होंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

        


ठेला संचालकों के खिलाफ की गई नगर निगम की कार्रवाई के विरोध में भाजपा के तमाम वरिष्ठ नेता और विधायक भी उतर गए हैं. विधायक महेंद्र हार्डिया ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर जताई नाराजगी. वहीं पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने भी इस तरह की कार्रवाई को रोकने के लिए कलेक्टर को खत लिखा है. बीजेपी के वरिष्ठ नेता कृष्ण मुरारी मोघे ने कहा है कि इस तरह की कार्रवाई से पार्टी की छवि खराब होती है.