मध्य प्रदेश में पत्रकार की संदिग्ध परिस्थितियों में जलने के बाद मौत, जिला पंचायत ADO पर लगा आरोप

मध्यप्रदेश के सागर के शाहगढ़ में 40 साल के पत्रकार चक्रेश जैन की जलने से संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. 

मध्य प्रदेश में पत्रकार की संदिग्ध परिस्थितियों में जलने के बाद मौत, जिला पंचायत ADO पर लगा आरोप

पत्रकार चक्रेश जैन (फाइल फोटो)

नई दिल्ली :

मध्यप्रदेश के सागर के शाहगढ़ में 40 साल के पत्रकार चक्रेश जैन की जलने से संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. जैन के भाई का आरोप है कि शाहगढ़ जिला पंचायत के एडीओ अमन चाैधरी ने उन्हें जलाकर मार दिया. दो साल पहले, चौधरी की शिकायत पर जैन के खिलाफ एससी / एसटी अत्याचार (रोकथाम) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था. मामला सुनवाई के अंतिम चरण में है. इस घटना में एक और पेंच है. पुलिस के मुताबिक गंभीर रूप से जलने के कुछ ही घंटे पहले, जैन ने अमन चौधरी को कथित तौर पर आग लगा दी थी. 30 फीसद तक जलने के बाद अस्पताल में भर्ती चौधरी ने बयान दिया कि चक्रेश जैन सुबह उनके घर आया और उन्हें आग लगा दी.  

बीजेपी विधायक की गुंडागर्दी, पत्रकार ने दिल्ली के चाणक्यपुरी थाने में शिकायत दर्ज कराई

लेकिन कुछ देर बाद जब अमरमऊ के पास एक झाेपड़ी में 90 फीसदी से ज्यादा जली हुई हालत में पत्रकार जैन मरणासन्न हालत में मिले, तब इस पूरे मामले में नया माेड़ आ गया. अस्पताल लाने के बाद उन्होंने दम ताेड़ दिया. पुलिस के मुताबिक कुछ साल पहले एडीओ चाैधरी और पत्रकार जैन के बीच विवाद हुआ था, जिसके बाद जैन के खिलाफ हरिजन एक्ट के तहत केस दर्ज हुआ था. यह मामला काेर्ट में चल रहा था और कुछ दिन बाद फैसला आने वाला था. जैन इस मामले में राजीनामा चाहते थे. इसी सिलसिले में उनकी बुधवार की सुबह चाैधरी से वो मिलने गये थे. पुलिस के मुताबिक चौधरी ने उनसे कहा कि जैन ने उस पर पेट्राेल छिड़ककर आग लगा दी और भाग गया.   

Newsbeep

उत्तर प्रदेश में रिपोर्टिंग के लिए पहुंचे पत्रकार की रेलवे पुलिस ने कर दी बुरी तरह पिटाई, वीडियो हुआ वायरल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं चक्रेश के भाई राजकुमार जैन ने आरोप लगाया कि एडीओ चाैधरी और उसके एक साथी ने उनके भाई काे जिंदा जलाकर मार डाला. उन्हें जब अस्पताल लाए तब वह जिंदा था. उस समय डाॅक्टर व पुलिस माैजूद थी, लेकिन उसके बयान नहीं लिए गए. दूसरी तरफ, सागर के एसपी अमित सांघी ने कहा, “दोनों घटनाओं की पुलिस द्वारा जांच की जा रही है और दोनों मामले अब तक सीआरपीसी की धारा 174 के तहत दर्ज किए गए हैं. फोरेंसिक विशेषज्ञों की टीमों ने दोनों स्थानों से नमूने एकत्र किए हैं और जांच जारी है.