कमलनाथ सरकार में सियासी उठापटक: दिग्विजय सिंह का दावा- गुरुग्राम के होटल में थे 10-11 विधायक, छह कांग्रेस कैंप में लौटे

कांग्रेस पार्टी के चार और बाहर से समर्थन दे रहे निर्दलीय और सपा-बसपा के विधायकों सहित आठ विधायकों को गुरुग्राम के एक होटल में देखा गया है.

कमलनाथ सरकार में सियासी उठापटक: दिग्विजय सिंह का दावा- गुरुग्राम के होटल में थे 10-11 विधायक, छह कांग्रेस कैंप में लौटे

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (फाइल फोटो)

खास बातें

  • गुड़गांव पहुंचने वाले विधायकों में चार कांग्रेस पार्टी के
  • दिग्विजय सिंह ने कुछ दिन पहले लगाया भाजपा पर आरोप
  • पिछले साल नेता विपक्ष ने दी सरकार गिराने की धमकी
भोपाल:

मध्यप्रदेश में कमलनाथ की अगुवाई वाली 15 महीने पुरानी कांग्रेस सरकार में सियासी उठापटक जारी है. कुछ विधायकों के गुरुग्राम के एक होटल में होने की खबरों के बाद कमलनाथ सरकार पर एक बार फिर मुश्किलों में घिर गई है. रातभर चले इस सियासी उठापटक के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने कुछ विधायकों को बाहर निकाल लेने की बात कही है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि हमें लगता है कि होटल में 10-11 विधायक थे, जिनमें  6 विधायक कांग्रेस कैंप में लौट आए हैं. दिग्विजय के मुताबिक, बाकी के 4 विधायकों को बीजेपी ने बेंगलुरु भेज दिया है लेकिन वो सभी भी लौट आएंगे. जो विधायक होटल पहुंचे थे, उनमें कांग्रेस के 4 विधायक थे. इसके अलावा बीएसपी और समाजवादी पार्टी के भी विधायक थे. दिग्विजय सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश की सरकार सुरक्षित थी, है और रहेगी. 

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी से निष्कासित विधायक रमाबाई को होटल से बाहर निकाल लिया गया हैं. मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री और कांग्रेस नेता नेता जीतू पटवारी और जयवर्धन सिंह गुरुग्राम के मानेसर स्थित आईटीसी होटल से रमाबाई के साथ निकलते हुए दिखाई दे रहे हैं. कल दिग्विजय सिंह गुड़गांव के उस होटल में पहुंचे थे जहां इन विधायकों को रखा गया था लेकिन उन्हें विधायकों से मिलने नहीं दिया गया. इससे पहले कहा जा रहा था कि होटल में आठ विधायक मौजूद हैं.

सिंह ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया, "जिन लोगों से संपर्क हुआ है वो वापस आने को तैयार थे. हम बिसाहूलाल सिंह और रमाबाई के संपर्क में थे. बीजेपी के रोकने के बावजूद रमाबाई वापस आ गई हैं." दिग्विजय ने बीजेपी नेताओं पर विधायकों को पैसे देने का आरोप लगाया है. उन्होंने दावा किया, "बीजेपी के रामपाल सिंह, नरोत्तम मिश्रा, अरविंद भदौरिया और संजय पाठक उन्हें पैसे देने जा रहे थे. अगर वहां कोई छापा पड़ा होता, तो वे पकड़े जाते... हमें लगता है कि वहां 10 से 11 विधायक थे, अब सिर्फ चार विधायक उनके पास है, वे भी हमारे पास आ जाएंगे."

इससे पहले, मध्य प्रदेश के वित्त मंत्री तरुण भनोत ने एनडीटीवी से बातचीत में आरोप लगाया, "कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने हमें फोन किया और बताया कि हमें (विधायकों) गुरुग्राम के आईटीसी होटल में जबरन रखा गया है और जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है. एक विधायक का फोन आने के बाद हमारे दो मंत्री जयवर्धन सिंह और जीतू पटवारी गुरुग्राम के होटल में आठ विधायकों से मिलने पहुंचे थे लेकिन उन्हें होटल के अंदर जाने नहीं दिया गया."

हालांकि, बीजेपी ने कांग्रेस नेताओं के आरोपों पर फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. कांग्रेस नेता दिग्विजय का दावा है कि अब होटल में सिर्फ चार विधायक हैं. वहीं मध्य प्रदेश सरकार के एक मंत्री का कहना है कि चार विधायकों को दिल्ली से बेंगलुरू भेज दिया गया. इस मामले में कांग्रेस नेताओं के अलग-अलग बयान सामने आ रहे हैं. 

भनोत ने कहा, "हरियाणा में बीजेपी की सरकार है इसलिए वहां की पुलिस और मध्य प्रदेश के बीजेपी विधायक तथा पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने हमारे दोनों मंत्रियों को होटल में जबरन रखे गए विधायकों से मिलने नहीं दिया है." 

दिग्विजय सिंह ने BJP पर लगाया विधायक खरीदने का आरोप, तो कमलनाथ ने कहा- फोकट में पैसा मिल रहा है ले लेना

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया था कि भाजपा राज्य सरकार को अस्थिर करने के लिए उनकी पार्टी के विधायकों को रिश्वत देने की कोशिश कर रही है. दिग्विजय सिंह ने दावा किया था कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा के एक अन्य वरिष्ठ नेता नरोत्तम मिश्रा 25-35 करोड़ रुपये देकर कांग्रेस के विधायकों को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं. बता दें, पिछले साल जुलाई में विपक्ष के नेता गोपाल भार्गव ने राज्य विधानसभा में कमलनाथ सरकार पर हमला करते हुए कहा था, 'ऊपर से आदेश है. तुम्हारी सरकार नहीं बचेगी.'

दिग्विजय सिंह ने BJP पर लगाया विधायक खरीदने का आरोप तो भाजपा MLA ने अपनी ही पार्टी पर उठाए सवाल

24 जुलाई 2019 को भार्गव ने कहा था, 'हमरे ऊपर वाले नंबर 1 या नंबर 2 का आदेश हुआ तो आपकी सरकार 24 घण्टे भी नहीं चलेगी. हालांकि इसके बाद राज्य विधानसभा में आपराधिक कानून (मध्य प्रदेश संशोधन) विधेयक, 2019 पर चर्चा के दौरान कमलनाथ सरकार के पक्ष में 122 वोट पड़े थे. उस दौरान भाजपा के दो विधायकों ने कांग्रेस सरकार के पक्ष में मतदान किया था. 

Newsbeep

वर्तमान में मध्य प्रदेश में 230 विधानसभा सीटें हैं. 2 विधायकों का निधन होने से वर्तमान में 228 सदस्य हैं. कांग्रेस के पास 114 विधायक हैं. सरकार को अन्य 4 निर्दलीय विधायकों, 2 बसपा और 1 सपा विधायक का भी समर्थन मिला हुआ है. मौजूदा समय में बीजेपी के पास 107 विधायक हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो: दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर लगाया कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने का आरोप