मध्य प्रदेश : राजभवन में तीन और COVID-19 पॉज़िटिव मिले, राज्यपाल लालजी टंडन का टेस्ट निकला निगेटिव

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का COVID-19 टेस्ट भी निगेटिव आया है. कोरोनावायरस के मामले में वृद्धि की वजह से जिला प्रशासन को एहतियाती कदम उठाते हुए राजभवन परिसर में रहने वाले लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी थी.

खास बातें

  • राजभवन में कोरोना के तीन और मरीज़ मिले
  • राजभवन में अब तक 10 कोरोना संक्रमित पाए गए
  • मध्य प्रदेश के राज्यपाल का टेस्ट निगेटिव निकला
भोपाल:

मध्यप्रदेश के राज्यपाल के निवास स्थान राजभवन (Raj Bhavan) में कोरोनावायरस (Coronavirus) के तीन और मामले सामने आए हैं. इसी के साथ राजभवन में अब तक कुल 10 कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं. इनमें राजभवन के कर्मचारी और उनके परिवारवाले भी शामिल हैं. राजभवन परिसर में रहने वाले 190 लोगों में कोरोना संक्रमण की जांच की गई है, जिसमें से 10 लोगों को टेस्ट पॉज़िटिव आया है. बाकी 180 लोगों का टेस्ट निगेटिव आया है. 

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का COVID-19 टेस्ट भी निगेटिव आया है. कोरोनावायरस के मामले में वृद्धि की वजह से जिला प्रशासन को एहतियाती कदम उठाते हुए राजभवन परिसर में रहने वाले लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी थी. राजभवन के कुछ हिस्सों को कंटेनमेंट ज़ोन घोषित किया गया था और कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए कहा गया था. 

विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने महामारी को संभालने में शिवराज सिंह चौहान सरकार पर नाकाम रहने का आरोप लगाते हुए हमला किया. राज्य के कुल 52 जिलों में से 51 जिले कोरोना से प्रभावित हैं. कांग्रेस नेता कमलेश्वर पटेल ने कहा, "राजभवन में कोरोना के मामले सामने आने के बाद राज्य में स्थिति को समझा जा सकता है. इंदौर और भोपाल में हालत खराब है. जब कोरोना वायरस पांव पसार रहा था तो बीजेपी सरकार बनाने में व्यस्त थी. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश में कोरोना संकट के लिए पूरी तरह से जिम्मेदारी हैं."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मध्य प्रदेश में शुक्रवार को कोरोना संक्रमण के 192 नए मामले सामने आने के बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 7,645 हो गई है. अकेले इंदौर में शुक्रवार को 84 नए मरीज़ मिले हैं. राज्य में कोरोना से अब तक 334 लोगों की जान जा चुकी है. 

वीडियो: PPE किट से बीमार हुए स्वास्थ्य कर्मी, आधा दर्जन से ज्यादा स्टाफ की तबियत बिगड़ी