NDTV Khabar

कमलनाथ की फटकार के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस ने वापस लिया सोशल मीडिया वाला फरमान

कांग्रेस के अंदरखाने की मानें तो चंद्रप्रभाष शेखर के तय किए गए इन मानदंडों को कमलनाथ ने सिरे से खारिज करते हुए अपनी नाराजगी भी व्यक्त की है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कमलनाथ की फटकार के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस ने वापस लिया सोशल मीडिया वाला फरमान

कमलनाथ से इस आदेश पर नाराजगी जताई है.

खास बातें

  1. मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष हैं कमलनाथ
  2. पार्टी उपाध्यक्ष से जताई नाराजगी
  3. वापस लिया गया फरमान
भोपाल: कुछ दिन पहले ही मध्य प्रदेश कांग्रेस की ओर से एक फरमान जारी किया गया था कि विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी के फेसबुक पेज पर 15,000 लाइक, ट्विटर एकाउंट पर 5,000 फॉलोअर, तथा बूथ-स्तर पर कार्यकर्ताओं के साथ व्हॉट्सऐप ग्रुप बना होने चाहिए. उन्हें MPCC के ट्विटर एकाउंट की हर पोस्ट को लाइक और री-ट्वीट करना होगा.' MPCC ने टिकट पाने के इच्छुक लोगों से 15 सितंबर तक ट्वीटर, फेसबुक और व्‍हाट्सएप की जानकारी मध्‍यप्रदेश कांग्रेस के सोशल मीडिया और आईटी विभाग में उपलब्‍ध कराने को भी कहा गया था. लेकिन प्रदेश अध्यक्ष और पार्टी के वरिष्ठ नेता कमलनाथ को यह आदेश ठीक नहीं लगा है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि  भोपाल प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष और पार्टी संगठन प्रभारी चंद्र प्रभाष शेखर को कड़ी फटकार लगाई है. जिसके बाद इस आदेश को निरस्त कर दिया गया है. कांग्रेस के अंदरखाने की मानें तो चंद्रप्रभाष शेखर के तय किए गए इन मानदंडों को कमलनाथ ने सिरे से खारिज करते हुए अपनी नाराजगी भी व्यक्त की है. 

(कांग्रेस का नया आदेश)
dd1kmr4g


कमलनाथ ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, चुनाव आयोग ने हमें मतदाताओं की सूची नहीं दी
आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस ने सोशल मीडिया की तगड़ी टीम तैयार की है और बूथ स्तर तक के मैनेजमेंट की तैयारी की गई है. बीजेपी ने प्रदेश में फैले 65,000 मतदान केंद्रों के इलाकों में स्थित सभी मंदिरों, हिन्दू धर्मस्थलों, मठों तथा इनके संचालक साधु, संतों, पुजारियों और इनसे जुड़े श्रद्धालुओं, सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं एवं अन्य महत्वपूर्ण व्यक्तियों के बारे में जानकारी जुटाई है.  


(पुराना आदेश)
gq9jvp1

टिप्पणियां


समाज का हर वर्ग परेशान, ऐसा कभी नहीं देखा : कमलनाथ

प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने बताया, ‘हां, हमने मंदिरों, मठों और इनसे जुड़े पुजारियों और संतों की जानकारी हासिल की है. ’ उन्होंने कहा कि पार्टी ने बूथ स्तर पर सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं और असरदार लोगों का डाटा भी एकत्र किया है. उन्होंने कहा ‘हम इनसे संपर्क करेंगे.’ 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement