NDTV Khabar

मध्यप्रदेश में उद्यानिकी फसलों के जरिए किसानों की आमदनी बढ़ाने की तैयारी

मध्यप्रदेश में उद्यानिकी फसलों के जरिए किसानों की आमदनी बढ़ाने की दिशा में राज्य सरकार ने प्रयास तेज कर दिए हैं. इसी क्रम में अगले एक साल में एक हजार एकड़ और पांच साल में दस हजार एकड़ में अल्ट्राहाइडेंसिटी के आम और संतरे का पौधरोपण किया जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्यप्रदेश में उद्यानिकी फसलों के जरिए किसानों की आमदनी बढ़ाने की तैयारी
नई दिल्ली:

मध्यप्रदेश में उद्यानिकी फसलों के जरिए किसानों की आमदनी बढ़ाने की दिशा में राज्य सरकार ने प्रयास तेज कर दिए हैं. इसी क्रम में अगले एक साल में एक हजार एकड़ और पांच साल में दस हजार एकड़ में अल्ट्राहाइडेंसिटी के आम और संतरे का पौधरोपण किया जाएगा. इससे अगले तीन साल में प्रतिवर्ष प्रति एकड़ किसानों को एक से डेढ़ लाख रुपये की शुद्ध आय होगी. मुख्यमंत्री कमलनाथ की शनिवार को संतरे और आम के पौधों के रोपण के मुद्दे पर कोका कोला कंपनी और जैन इरीगेशन कंपनी के प्रतिनिधियों के साथ बैठक हुई. इस बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देकर किसानों की आय दोगुनी की जा सकेगी. इसके लिए जरूरी है कि निजी क्षेत्र के सहयोग से ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित करें, जहां पर उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा दिया जा सकता है. 

योगी आदित्यनाथ सरकार अब गायों के जरिए यूपी में 'बढ़ाएगी रोजगार', नई योजना को दी मंजूरी


आधिकारिक जानकारी के अनुसार, राज्य सरकार के सहयोग से कोका कोला और जैन इरीगेशन कंपनी हरदा, होशंगाबाद, बैतूल, मंडला, डिंडौरी जिले में आम और आगर मालवा, शाजापुर एवं छिंदवाड़ा जिले में संतरे की खेती को प्रोत्साहित करेगी. पहले साल में एक हजार और अगले पांच साल में दस हजार एकड़ में आम और संतरे की खेती की जाएगी. इससे पहले साल में 700 किसान और पांच साल में 7000 किसान लाभान्वित होंगे. बताया गया है कि एक एकड़ में 500 पौधे लगाने के लिए किसानों को टीश्यू कल्चर पद्धति से तैयार पौधे को दिए जाएंगे. इसके लिए उन्हें ड्रिप इरीगेशन की सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाएगी. इस वर्ष सितंबर-अक्टूबर में उद्यानिकी विभाग 25 एकड़ में प्रदर्शन के रूप में पौधरोपण करेगी और जनवरी अंत तक एक हजार एकड़ में किसानों के खेतों में अल्ट्राहाइडेंसिटी के प्लांटेशन करेगी.

बांस को उगा और काट सकेंगे किसान : सरकार ने कानून में संशोधन के लिए अध्यादेश जारी किया

टिप्पणियां

कोका कोला कंपनी जरका जलगांव में तत्काल और तीन साल में बाबई में फ्रूट जूस बनाने के लिए खाद्ध प्रसंस्करण इकाई स्थापित करेगी. बैठक में सरकारी अधिकारियों के अलावा कोका कोला कंपनी के वाइस प्रेसीडेंट असीम पारिख तथा जैन इरीगेशन के सेंट्रल इंडिया प्रमुख संजय भंडारी उपस्थित थे.

सिंपल समाचार: क्या बिना खर्चे की खेती से आमदनी बढ़ेगी?​



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement