मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने दी हिदायत, कहा- राज्य सरकार लक्ष्मण रेखा पार न करे

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर टकराव के हालात बनने लगे हैं, क्योंकि राज्य सरकार कानून को संविधान विरोधी बता रही है तो राज्यपाल लालजी टंडन (Governor Lalji Tandon) ने राज्य सरकार को मर्यादा याद दिलाई है.

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने दी हिदायत, कहा- राज्य सरकार लक्ष्मण रेखा पार न करे

लालजी टंडन मध्य प्रदेश के राज्यपाल हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • मध्य प्रदेश के राज्यपाल हैं लालजी टंडन
  • गवर्नर ने राज्य सरकार को दी हिदायत
  • कहा- सरकार लक्ष्मण रेखा पार न करे
भोपाल:

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर टकराव के हालात बनने लगे हैं, क्योंकि राज्य सरकार कानून को संविधान विरोधी बता रही है तो राज्यपाल लालजी टंडन (Governor Lalji Tandon) ने राज्य सरकार को मर्यादा याद दिलाई है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकारों के लिए भी संविधान में 'लक्ष्मण रेखा' का प्रावधान है. राज्यपाल टंडन ने शुक्रवार को राजभवन में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान संवाददाताओं के CAA को लेकर पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा, 'संसद में जो प्रस्ताव दो-तिहाई बहुमत से पारित होता है, चाहे वह संविधान में संशोधन हो या उसमें कोई स्पष्टीकरण हो, तो राज्यों केा हमारे संघीय ढांचे की व्यवस्था के मुताबिक उन्हें विरोध करने का अधिकार है, लेकिन संविधान के अनुसार, अपनी मर्यादा को समझना होगा.'

राज्य सरकार और अन्य राज्यों की सरकारों द्वारा कानून का विरोध किए जाने और लागू न किए जाने की टिप्पणी पर पूछे गए सवाल पर राज्यपाल ने कहा कि संविधान में सरकार के लिए एक लक्ष्मण रेखा है, उसे पार नहीं करना चाहिए. ज्ञात हो कि राज्य सरकार और कांग्रेस लगातार CAA का विरोध कर रही है.

संसद में हुआ हंगामा, अभिभाषण में राष्ट्रपति कोविंद ने कहा- CAA बनाकर गांधी जी की इच्‍छा को पूरा किया गया

इतना ही नहीं, खुले तौर पर मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamal Nath) भी नागरिकता संशोधन कानून को संविधान के खिलाफ बता चुके हैं. एक तरफ जहां सरकार विरोध कर रही है, वहीं राज्यपाल टंडन संविधान की लक्ष्मण रेखा की बात कर रहे हैं, इससे आगामी दिनों में टकराव के हालात बनने के आसार नजर आने लगे हैं.

Newsbeep

VIDEO: राष्ट्रपति के CAA पर बोलने को लेकर केटीएस तुलसी ने जताई आपत्ति

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)