NDTV Khabar

मध्यप्रदेश सरकार की आमदनी है अठन्नी और ख़र्चा रुपया, नर्मदा सेवा यात्रा के विज्ञापन पर लुटा दिए 33 करोड़

राज्य में नर्मदा नदी को प्रदूषण से मुक्त करने, हरियाली बढ़ाने के लिये 11 दिसंबर, 2016 से 15 मई, 2017 तक नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा निकाली गई थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्यप्रदेश सरकार की आमदनी है अठन्नी और ख़र्चा रुपया, नर्मदा सेवा यात्रा के विज्ञापन पर लुटा दिए 33 करोड़

फाइल फोटो

भोपाल:

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जो नर्मदा सेवा यात्रा शुरू की, उसे देश नहीं विदेश में भी अख़बारों की सुर्खियों में जगह मिली. जगह बनाने के लिये सरकारी तिजोरी से 33 करोड़ 7 लाख 40 हजार 344 रुपये खर्च किये गये. ये जानकारी विधानसभा में पूछे गये सवाल के जवाब में राज्य सरकार ने दी है. राज्य में नर्मदा नदी को प्रदूषण से मुक्त करने, हरियाली बढ़ाने के लिये 11 दिसंबर, 2016 से 15 मई, 2017 तक नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा निकाली गई थी. सरकार ने कहा कि यात्रा को जनसहयोग से निकाला जाएगा लेकिन हर दिन इस यात्रा के प्रचार प्रसार पर ही 15 लाख रुपये से ज्यादा खर्च हुए.

विधानसभा में एक सवाल पर सरकार के लिखित जवाब में कहा गया है कि यात्रा के विज्ञापन टीवी चैनल, समाचार-पत्र और पत्रिकाओं से लेकर विदेशी अखबारों तक में प्रकाशित किए गए. 10 लाख 26 हजार रुपये का विज्ञापन न्यूयॉर्क के इंडिया एब्रॉड में भी छापा गया. नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा के दौरान अखबारों को 10.77 करोड़, टीवी चैनलों को 13.23 करोड़ रु, मुद्रण पर जनसंपर्क विभाग ने 48.71 लाख रुपये खर्च किये, जबकि जनसंपर्क विभाग के माध्यम ने भी 8.5 करोड़ रुपये के विज्ञापन दिये.


यात्रा के लिए दो इवेंट फर्म मेसर्स भोपाल ग्लास एंड टेंट स्टोर और मेसर्स विजन फोर्स को काम दिया गया था. ये सब उस वक्त में जब मध्यप्रदेश सरकार पर डेढ़ लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज है.

टिप्पणियां

मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा में खनन पर पूरी तरह से रोक लगा दी है



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement